05 दिसंबर, 2009

क्षणिका

इधर पत्थर उधर पत्थर ,
जिधर देखो उधर पत्थर ,
काल की अनुभूतियों ने ,
बना दिया मुझे पत्थर |

04 दिसंबर, 2009

बहार


झूलों पर पेंग बढ़ाती आती
कोमल डाली सी झुक जाती
मन मोहक खुशबू छा जाती
जब आती बहार पहाड़ों पर |
प्रकृति की इस बगिया में
वह अपनी जगह बनाती
बनती कभी चंचला हिरनी
या गीत विरह के गाती|
फिर कोयल की कूक उभरती
बोझिल लम्हों को हर लेती
कल कल बहती निर्झरनी सी
लो आई बहार वन देवी सी |

आशा

03 दिसंबर, 2009

बटोही


सागर तट पर खड़ा बटोही
एक बार यह सोच रहा था
क्या वह पार उतर जाएगा
अपना सम्बल जहाँ पायेगा |
अगले क्षण वह मगन हो गया
भवसागर में विलय हो गया
पार उतरना भूल गया वह
जहाँ खड़ा था वहीं रहा वह |
पैरों पर जब हुआ प्रहार
लहरों ने झनकाये तार
उसका मोह भंग हो गया
भटका मन अनंग हो गया |
आई फिर हवा की बारी
हिला गयी मन की फुलवारी
फिर से आया वही विचार
क्या वह पार उतर जाएगा
अपना सम्बल जहाँ पायेगा |

आशा

पहेली

है जिन्दगी
एक अजीब पहेली
कभी चलती है
कभी ठहर जाती है|
जब चलती है
तब अहसास करती है
न जाने और कितने
पड़ाव अभी बाकी हैं |
जिन्दगी की रफ्तार
कभी ज्यादा
तो कभी कम हो जाती है|
यही पड़ाव है
या जिन्दगी का ठहराव
यही बात मुझे
समझ नहीं आती
और यह पहेली
अनसुलझी ही रह जाती |
यह शाम का धुँधलका
कहता है
साँस अभी बाकी है
न हो उदास
आस अभी बाकी है |
जीवन की शाम का
शायद यहीं कहीं है विराम
पर हो क्यूँ ऐसा सोच
पूरी रात अभी बाकी है |


आशा

01 दिसंबर, 2009

बाल श्रमिक

तपती धूप , दमकते चहरे ,
श्रमकण जिनपर गए उकेरे ,
काले भूरे बाल सुनहरे ,
भोले भाले नन्हे चेहरे ,
जल्दी जल्दी हाथ चलाते ,
थक जाते पर रुक ना पाते ,
उस पर भी वे झिड़के जाते ,
सजल हुई आँखे , पर हँसते ,
मन के टूटे तार लरजते |

आशा

30 नवंबर, 2009

एक कहानी तुलसी की

एक गाँव में तुलसी नाम की एक महिला रहती थी | वह रोज अपने आँगन में लगी तुलसी पर जल चढ़ाती थी |
जब वह पूजन करती थी तब वह भगवान से प्रार्थना करती थी कि यदि वह मरे तब उसे भगवान विष्णु का
कन्धा मिले |

एक रात वह अचानक चल बसी | आसपास के सभी लोग एकत्र हो कर उसे चक्रतीर्थ ले जाने की तैयारी
करने लगे | जब उसकी अर्थी तैयार की जा रही थी लागों ने पाया कि उसे उठाना असम्भव है | वह पत्थर
कि तरह भारी हो गई थी |
उधर विष्णु लोक में जोर जोर से घंटे बजने लगे | उस समय विष्णु जी शेष शैया पर विश्राम कर रहे थे |
लक्ष्मीजी उनके पैर दबा रहीं थीं | घंटों की आवाज से विष्णु जी विचलित हो उठे | लक्ष्मी जी ने परेशानी का
कारण जानना चाहा | भगवान ने कहा मुझे मेरा कोई भक्त बुला रहा है |मुझे अभी वहाँ जाना होगा |
हरी ने एक बालक का रूप धरा व वहाँ जा पहुँचे | वहाँ जा कर उसे अपना कन्धा दिया |जैसे ही भगबान
का स्पर्श हुआ अर्थी एकदम हल्की हो गयी और महिला की मुक्ति हो गई |