30 अप्रैल, 2015

सीमेंट के जंगल में (मजदूर बेचारा )

मजदूर दिवस पर :-

सीमेंट के जंगल में
मशीनों के उपयोग ने
किया उसे बेरोजगार
क्या खुद खाए
क्या परिवार को खिलाए
आज महनतकश इंसान
परेशान दो जून की रोटी को
यह कैसी लाचारी
बच्चों का बिलखना
सह नहीं पाता
खुद बेहाल हुआ जाता
जब कोई हल न सूझता
पत्नी पर क्रोधित होता
मधुशाला की राह पकड़ता
पहले ही कर्ज कम नहीं
उसमें और वृद्धि करता
जब लेनदार दरवाजे आये
अधिक असंतुलित हो जाता
हाथापाई कर बैठता
जुर्म की दुनिया में
प्रवेश करता |
आशा

29 अप्रैल, 2015

है वह ऐसा ही

 
शून्य में ताकता एक टक
मुस्कुराता कभी सहम जाता 
गुमसुम सा हो जाता 
चुप्पी साध लेता |
चाहे जहां घूमता फिरता
 बिना किसी को बताए 
बच्चों की चुहल से त्रस्त होता
पर कुछ न कहता  |
लोगों ने उसे पागल समझा 
रोका न टोका 
कुछ भी न कहा |
आकाश से टपकती जल की बूँदें 
उसे उदास कर जातीं 
सोचता वे किसी
 विरहणी के अश्रु तो नहीं  |
उन्हें देख आंसू बहाता 
प्रकृति का एक अंश 
जाने कहाँ खो जाता 
वह सोच  नहीं पाता  |
कुहू कुहू कोयल की सुनता 
अमराई में उसे खोजता 
वह हाथ न आती उड़ जाती 
वह कारण खोज न पाता |
था यह खेल प्रकृति का 
या उसके मन की उलझन
समझ नहीं पाता
अधिक उलझता जाता  |
बैठा है आज भी गुमसुम 
विचारों का जाल बन रहा 
ना हंसना हंसाना 
ना ही संभाषण किसी से |
है वह ऐसा ही सब जानते
ना जाने यह तंद्रा कब टूटेगी 
वर्तमान में जीने की चाह 
मन में जन्म लेगी |








27 अप्रैल, 2015

कहीं तो गुलाब हो

क्यारी गुलाब की के लिए चित्र परिणाम


क्यारी गुलाब की के लिए चित्र परिणाम
है यह पुष्पों  की बगिया
कहीं तो गुलाब हो 
महक हो या ना हो 
रंग रूप तो हो
 कोई क्यारी हो ऐसी
जहां गुलाब ही गुलाब हों
कांटों से सुरक्षित रहें 
खुद की पहचान हो
भीड़ तंत्र में खो जाये यदि 
महक ही पहचान हो 
पहचान भी ऐसी कि
 खोजना सरल हो 
है कार्य कठिन
 सहज  नहीं
है शिद्दत आवश्यक 
खोज के लिए 
जब मन चाहा  मिल जाए
जीवन रंगीन हो
रंग बिरंगे पुष्पों में
वह लाजबाब हो 
महक हो नाम हो 
परिपूर्णता लिए हो |
आशा