11 दिसंबर, 2016

हाईकू



१-
छू पद रज
शिला हुई अहिल्या
राम कृपा से |
२-
चढ़ने न दे
लकड़ी  की है  नौका
माझी नकारे |
३-
पैर पखारे
माझी पार उतारे
पुण्याशीश ले |
४-
राम वन में
सिया अनुज संग
पाप मिटाएं |
५-
सीता हरण
राम सह न पाए
हुए अधीर |
६-
वह राज क्या
उसके साथ गया
खुल न सका |
आशा