17 अगस्त, 2018

मेरी पहचान



जब मैं छोटी बेटी थी 
मनसा था मेरा नाम 
बड़ी शरारत करती थी 

पर थी मैं घर की शान |
वैसे तो माँ से डरती थी 
माँ के आँख दिखाते ही 

मैं सहमी-सहमी रहती थी |
मेरी आँखें ही मन का 

दर्पण होती थीं
व मन की बातें कहती थीं |
एक दिन की बताऊँ बात 
जब मैं गई माँ के साथ 
सभी अजनबी चेहरे थे 
हिल मिल गई सभी के साथ |
माँ ने पकड़ी मेरी चुटिया
यही मेरी है प्यारी बिटिया 
मौसी ने प्यार जता पूछा 
"इतने दिन कहाँ रहीं बिटिया? "
तब यही विचार मन में आया 
क्या मेरा नाम नही भाया 
जो मनसा से हुई आज बिटिया |
बस मेरी बनी यही पहिचान 
'माँ की बिटिया' 'माँ की बिटिया' 
जब मै थोड़ी बड़ी हुई 
पढ़ने की लगन लगी मुझको 
मैंने बोला, "मेरे पापा, 

मुझको शाला में जाना है !"
शाला में सबकी प्यारी थी 
सर की बड़ी दुलारी थी 
एक दिन सब पूछ रहे थे 
"कक्षा में कौन प्रथम आया 
हॉकी में किसका हुआ चयन ?"
शिक्षक ने थामा मेरा हाथ 
परिचय करवाया मेरे साथ 
कहा, "यही है मेरी बेटी 
इसने मेरा नाम बढ़ाया !"
तब बनी मेरी वही पहचान 
शिक्षक जी की प्यारी शान
बस मेरी पहचान यही थी 
मनसा से बनी गुरु की शान |
जिस दिन पहुँची मैं ससुराल 
घर में आया फिर भूचाल 
सब के दिल की रानी थी 
फिर भी नहीं अनजानी थी 
यहाँ मेरी थी क्या पहचान 
केवल थी मै घर की जान |
अपनी यहाँ पहचान बनाने को 
अपना मन समझाने को 
किये अनेक उपाय 
पर ना तो कोई काम आया 
न बनी पहचान |
मैंं केवल उनकी अपनी ही 
उनकी ही पत्नी बनी रही 
बस मेरी बनी यही पहचान 
श्रीमती हैं घर की शान |
अब मैं भूली अपना नाम 
माँ की बिटिया ,गुरु की शान 
उनकी अपनी प्यारी पत्नी 
अब तो बस इतनी ही है 
मेरी अपनी यह पहचान 
बनी मेरी अब यही पहचान |

आशा

16 अगस्त, 2018

अनजाने जाने पहचाने







 मेरे आसपास जुटी हैं
मेरी परिचितों की बिसात
अलग से कुछ भी नहीं है
मैं ही हूँ खुद की पहिचान
कतरा कतरा जो छू गया मुझे
वह मेरा अपना हो गया
अहम दूर  तक न छू सका
जो भी मुझसे मिला
मुझमें विलीन हो गया
मंथर गति से आती मलय
मिट्टी की सोंधी खुशबू
बारम्बार करती आकृष्ट अपनी ओर
उन गलियों में जिनमें
बिताया  अपना कल मैंने
कदम थम जाते वहां
उम्र के अंतिम पड़ाव पर आते ही
 लौट कर आने लगा बचपन
और बीते कल की यादें |
आशा

14 अगस्त, 2018

स्वाभिमान


स्वाभिमान जरूरी है
सफल जीवन के लिए 
इस के होते कोई 
मात नहीं दे सकता 
जीवन में प्रगति के लिए 
स्वाभिमान देता है ताकत 
दृढ इच्छाशक्ति को
बनाए रखने की 
यही एक नियामत है
जो सबके पास नहीं होती 
रह जाती है क्षणिक याद 
मरने के बाद तक 
ज़िंदा हूँ जब तक 
स्वाभिनान है ज़िंदा तब तक |
आशा

10 अगस्त, 2018

रखते हैं तुम्हें अपने दिल में


रखते हैं तुम्हें
अपने मन में
छिपाकर  मन की
गहराई में
डरते हैं जमाने  से
कहीं धोका न हो जाए
इतना प्यार करते हैं
डर बना रहता है
प्यार को किसी की
 नजर न लग जाए
यदि कोई सूची हो
प्यार करने वालों की
देखोगे तो जानोंगे
सब से ऊपर
|नाम हमारा होगा उसमें |
आशा

09 अगस्त, 2018

शहीद





नमन तुम्हें शहीद
देश के सपूत वीर
क्या नहीं किया तुमने
देश हित के लिए |
हम करते प्रणाम 
सारे शहीदों को
और उन माताओं को  
जिनने जन्मा वीर सपूतों को |
जाने कितने वीरों ने दी आहुति
अपना प्रण पूर्ण किया
देश हित के लिए दी जान 
अपनी निष्ठा की पूर्ण अपनी |
हमें गर्व है उन सपूतों पर
जो जीते देश हित  के लिए  
उस हेतु ही जान देते
अपना सब कुर्बान करते 
देश के लिए |


आशा

08 अगस्त, 2018

शत शत नमन




भारत माता के सच्चे सपूत
देश के रखवाले
तुम्हें शत शत नमन
दिन रात सुरक्षा
सीमा की करते
उत्साह क्षीण न होने देते
तुम्हें मेरा प्रणाम
वह मां है बहुत भाग्यशाली
जिसने जन्म दिया
तुम जैसे वीर सपूत को
उसे शत शत नमन
तुम्हारी वीरता के चर्चे
पूरा देश कर रहा
जाती धर्म वर्ग से हटकर
वीरता के चर्चे कर रहा
तुम्हें शत शत नमन
देश है हमारा
उसके लिए जियेंगे
उसके लिए ही
जान न्योछावर करेंगे
यही जज्बा यही शक्ति
मन में धारण करने वाले
देश के रक्षक
तुम्हें मेरा सलाम |

06 अगस्त, 2018

मुलाकात


यूँ तो बरसों न मिले 
अब मिले तो कहने को रहा 
मुलाकात का समय कम रहा 
यह कैसा मन में ख्याल आया |
आशा

02 अगस्त, 2018

सपनों का संसार अनूठा


थकी हारी रात को 
जब नयन बंद करती 
पड़ जाती निढाल शैया पर 
जब नींद का होता आगमन  
स्वप्न चले आते बेझिझक !
यूँ तो याद नहीं रहते 
पर यदि रह जाते भूले से 
मन को दुविधा से भर देते 
मन में बार बार आघात होता 
होता ऐसा क्यूँ ? 
जब स्वप्न रंगीन होता 
मन प्रसन्नता से भरता 
पर जब देखती 
किसी अपने को सपने में  
चौंक कर उठ बैठती !
सोचती कहीं कुछ बुरा होने को है 
ज़रूरी नहीं हर स्वप्न 
कोई सन्देश दे !
भोर की बेला में 
जो स्वप्न दिखाई देते 
अधिकतर सच ही होते 
जहाँ कभी गए ही नहीं 
स्वप्नों में वे ही दिखाई देते !
पर एक बात ज़रूर होती 
चाहे जहाँ भी घूमती 
प्रमुख पात्र मैं ही होती ! 
कुछ लोग दिन में 
जागती आँखों से भी स्वप्न देखते 
दिवा स्वप्न में ऐसे व्यस्त होते 
कल्पना में खो जाते 
खुद की सुध बुध खो बैठते ! 

आशा सक्सेना 






30 जुलाई, 2018

सावन

समाचार फ़



आया महीना सावन का
घिर आए बदरवाकाले भूरे 
टिपटिप बरसी बूँदें जल की
हरियाया पत्ता पत्ता
सारी सृष्टि का
धरती हुई हरी भरी
प्रकृति हुई समृद्ध
ईश्वर की कृपा से |
बच्चों ने की जिद
डलवाया झूला आँगन में
पूरा आनंद उठाया
 ऊंचाई को छूने का  
रिमझिम का
गरम गरम भजियों का
बहनें राह देख रहीं
भाई के आने की
साथ साथ रक्षाबंधन
मनाने की प्यार बांटने की |
आशा

27 जुलाई, 2018

बड़भागिनी नारी


हो तुम बड़भागी
भरी आत्मविश्वास से 
असंभव शब्द तुम जानती नहीं 
हर कार्य करने की क्षमता रखतीं 
तभी तो मैं हो गयी तुम पर न्यौछावर 
यही लगाव यही जज्बा 
होने नहीं देता निराश 
हर बार भाग्य रहा तुम्हारा साथी 
हो तुम विशिष्ट सबसे जुदा 
सभी तुम्हारे गुणों पर फ़िदा 
हो इतने गुणों की मलिका 
तब भी नहीं गुरूर 
हर ऊँचाई छू कर आतीं
और विनम्रता बढ़ती जाती 
ऊँचाई पर जाओ 
सफलता का ध्वज फहराओ 
और सबकी दुआएं पाओ 
बनो प्रेरणा आने वाली पीढ़ी की 
घर बाहर दोनों में सक्रिय 
निराशा से कोसों दूर 
कर लो किस्मत को अपनी मुट्ठी में 
और बनो अनूठे गुणों का गुलदस्ता ! 


आशा सक्सेना




26 जुलाई, 2018

भाग्य का खेल



थी खुशरंग 
रहा मेरा मन अनंग 
जाने थे कितने व्यवधान 
अनगिनत मेरे जीवन में !
हर कठिनाई का किया सामना 
भाग्य समझ कर अपना 
कभी भी मोर्चा न छोड़ा 
किसी भी उलझन से !
बहुतों को तो रहती थी जलन 
मेरी ही तकदीर से 
पर इस बार अचानक 
घिरी हुई हूँ भवसागर में 
नैया मेरी डोल रही है 
फँस कर रह गयी मँझधार में 
सारे यत्न हुए बेकार
मानसिक रूप से रही स्वस्थ 
पर शारीरिक कष्ट 
कर गए वार ! 


आशा सक्सेना  



23 जुलाई, 2018

ख्याल


हर वख्त ख्यालों में रहते हो
किसी स्वप्न की तरह
आँखों में समाए रहते हो
किसी सीधे वार की तरह
कभी भूल कर न पूंछा कि
आखिर मेरी भी है कोई इच्छा
खिलोना बन कर रह गई हूं
तुम्हारे इंतज़ार के लिए
या हूँ एक रक्षक
तुम्हारे दरवाजे के लिए |
आशा