26 नवंबर, 2010

क्षणिका

मैंने तो बस सच कहा है ,
लाग लपेट उसमे ना कोई ,
इस पर भी यदि बुरा मानो ,
सोच लो कुछ कहा ही नहीं |

आशा