Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

01 मई, 2019

निष्ठा

                                   चाहत है जो कार्य लूं हाथ में 
पूरी निष्ठा से पूर्ण करूँ
 सारा जीवन अर्पित करूँ
देश हित के लिए|
हूँ समर्पित पूरी निष्ठा से
नहीं किसी के बहकावे में
ना ही अन्धानुकरण कर के
किया है  वादा खुद से|
लगन ऐसी लगी है अब तो
जब तक कार्य पूर्ण न होगा
चैन न लूंगी तब तक|
कर्तव्य पूर्ति  की लालसा
हुई जागृत जब से
अपने अधिकार  भूली तब से
सारी निष्ठा की समर्पित
देश की उन्नति  के लिए|
जान की भी परवाह नहीं है
सफलता हाथ लगेगी जब
पूरी लगन से होगा  समर्पण
 अपने कार्य के लिए  |
आशा

30 अप्रैल, 2019

कार्य सभी पूर्ण करने हैं

भोर होती है शाम होती है
रात यूँ ही गुजर जाती है
कुछ करो या नहीं
जिन्दगी यूँ ही तमाम होती है |
व्यर्थ है यूँ ही जीना
केवल अकारथ 
                                                   जीवन का बोझ ढ़ोना |
                                                  जब बुद्धि साथ छोड़ जाए
                                                    जीवन बोझ हो जाए
                                                        क्या फ़ायदा
                                                         ऐसे जीने का |
                                                    खुद से  प्रेम ना कभी किया
                                                 ना ही कुछ आनंद लिया
                                                    तब भी लालसा रही
                                               कुछ वक्त और मिल जाए
                                             अभी तो कई काम बाक़ी हैं |
                                               जब तक पूर्ण न हों सभी
                                     जीने का अरमां अभी बाक़ी है 
                                                 है यही कामना मेरी
                                              कोई अधूरा काम न छूटे|
                                        यदि सोचा हुआ सब पूर्ण हुआ
                                           प्रभु का सानिध्य पा 
                                              हो कर भक्ति में लीन 
                                           जीवन सफल हो जाएगा |

                                                      आशा

28 अप्रैल, 2019

हजारों यूँ ही मर जाते हैं



  रूप तुम्हारा महका महका
जिस्म बना संदल सा
क्या समा बंधता  है 
जब तुम गुजरती हो उधर  से |
हजारों यूँ ही मर जाते हैं
 तुम्हारे मुस्कुराने से
जब भी निगाहों के वार चलाती हो
 परदे की ओट से|
 देती हो जुम्बिश हलकी सी जब
 अपनी काकुल को
उसका कम्पन  और
 लव पर आती सहज  मुस्कान
  निगाहों के वार देने लगते 
सन्देश जो रहा अनकहा|
कहने की शक्ति मन में छिपे
 शब्दों की हुई खोखली
फिर भी हजारों  मर जाते हैं
 तुम्हारे मुस्कुराने से |
इन अदाओं पर
 लाख पहरा लगा हो 
कठिन परिक्षा से गुजर जाते हैं 
बहुत सरलता से |

आशा