14 मार्च, 2020

कहने को अब रहा क्या








कहने को अब रहा क्या है
किसे है फुरसत मेरे पास बैठने की
 इस कठिन दौर से गुजरने में
मुझ पर क्या बीत रही है
किसी ने कोशिश ही नहीं की है जानने की
मुझे अकेलापन क्यूँ खलता है
कभी सोचना गहराई से
 तभी जान सकोगे मुझे पहचान सकोगे
मैं क्या से क्या हो गई हूँ  
मैंने किसी को कष्ट न  दिया
पर हुई अब  पराधीन इतनी कि
 अब बैसाखी भी साथ नहीं देती 
जीवन से मोह अब टूट चला है 
अब चलाचली का डेरा है
खाट से  बड़ा ही  लगाव हुआ  है
बिस्तर ने मुझे अपनाया है
मैं स्वतंत्र प्राणी थी 
अब उधार के पल जी रही हूँ 
ठहरे हुए जल की तरह 
 एक ही स्थान पर  ठहर कर रह  गई हूँ
 यह सजा नहीं तो और  क्या है ?
आशा


12 मार्च, 2020

भाईचारा

                                       
                                         जब से जन्में साथ रहे
 एक ही कक्ष में
खाया बाँट कर 
कभी न अकेले बचपन  में
खेले सड़क पर एक साथ
 की शरारतें धर बाहर  
गहरे सम्बन्ध रहे सदा
 दौनों के परिवारों में
कहाँ तो एक दूसरे को 
भाई कहते नहीं थकते थे
 दरार कब कहाँ  कैसे पड़ी
 दोनो  जान न पाए
खाई गहरी होती गई
 कम  नहीं  हो  पाई
अब तो एक दूसरे को
निगाह भर नहीं देखते
सामने पड़ते ही 
मुहं फेर कर चल देते हैं
कहाँ गया सद्भभाव और
 आपस में  भाईचारा
 अजब सा सन्नाटा 
पसरा है गली में
 कोई त्यौहार मने कैसे 
रक्षाबंधन दिवाली ईद और होली
मिठाई में मिठास पहले सी नहीं है
 मन में उत्साह नहीं है
रंग सभी बेरंग हो गए 
जब मन ना मिले
न जाने किस की नजर लगी है
 आपस के  प्रेम में
 तिरोहित हुआ है 
माँ बहन मौसी भाभी  का स्नेह
जबतक  भाईचारा  फिर से न होगा
 जीवन में कोई रंग न होगा  
अनेकता में एकता का
 मूल मंत्र सार्थक  न होगा |
आशा

11 मार्च, 2020

दिलदार






है  दिल जिसका बड़ा
सही राह चुन पाता
जो गैरों को भी अपनाता
वही दिलदार कहलाता |
 केवल मस्तिष्क  से जिसने सोचा
 सही गलत का भेद  न जाना
भावुक मन को दुखी किया
वह कैसे  दिलदार हुआ |
दौनों की जरूरत है
 दिल  और दिमाग की
केवल भावनाओं में बहने से 
 कुछ भी हासिल नहीं होता |
दिलदार  होते खुद्दार बहुत
 नहीं चाहते खैरात में कुछ
जिस पर होता है अधिकार उनका
उसी तक रहते  सीमित  |
स्वार्थ परक हो कर  यदि
 जोड़ा अपनत्व   किसी से
उस चाहत का दुरुपयोग किया
वह दिलदार कभी न हुआ |
बिना लागलपेट लालच के
 की  सहायता  किसी की
दिल खोल जताया अपनापन
वही सच्चा दिलदार हुआ|
 बड़ा दिल रखना  नहीं  है  बीमारी
है एक ऎसा जज्बा जो  धीरे से पनपा
 जो सरे आम न हुआ सीमित रहा |
हो तुम बड़े दिलदार रसिया 
दिल फैक नहीं हो 
किये गुलाल से लाल गाल  
खूब होली खेली उससे |
उसने किया साज  सिंगार  
हो तुम ही दिलवर उसके
 लोग ईर्षा करते न थकते उससे 
उस पर एकाधिकार केवल तुम्हारा  |
तुम ही हो यार दिलदार दिलवर
रंग रसिया उसके लिए 
और वह है तुम्हारे लिए 
जोड़ी को किसी की नजर|
t
 आशा


09 मार्च, 2020

हाईकू






१-सागर सीपी
एक स्थान पर हैं
मोती है खरा

२-पानी मोती का
नूर चहरे का है
सच्चा परखा

३-गहरा नीला 
रंग पिचकारी का 
उसने डाला 

४-होली में रंगी  
हुई तरबतर 
 वस्त्र खराब 

५-गुजिया मीठी 
खाए सकलपारे
बड़े प्यार से 


६-खेली न  होली 
पूरे जोश से पर 
उसे न रंगा 

७-चढी है भंग 
है तरंग मन में 
रंग गहरा 

८-प्यार का रंग 
ऐसा चढ़ा मन पे 
छूट न पाया
आशा

सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...