13 जनवरी, 2023

काम जब ठीक से न बटा हो

 




कितनी सीमित सारी जानकारी मिली  

मन ने भी बार बार टोका

 किसके लिए  किसने काम सोपा

जानने  को  आवश्यक न समझा |

सब कार्यों की  न जान कारी मिली

 उसे दूर रखा गया सब से

कारण तक न बताया गया

या उसे धर का सदस्य ना समझा |

यह समस्या तभी उत्पन्न होती

जब तीन पांच  का राज्य होता

 सब देते दोष एक दूसरे को

 शिकायत करते आपस में युद्ध करते |

मन का विक्षोभ इतना बढ़ता कि

किसी कार्य में चित्त न लगता

इसी लिए कहना पड़ता अपना अपना

काम  करो और घर जाओ |

घर का माहोल न बिगाड़ो

आपस में झगड़ने से क्या लाभ होगा

कभी अवसर भी देखा करो

तुम बच्चे जैसा न लड़ा करो |

आशा सक्सेना 

 

 

 

11 जनवरी, 2023

आज मौसम कितना सुहाना

 

                                                आज   मौसम कितना सुहाना है 

सर्दी सुबह  है गर्मी दोपहर में 

शाम को फिर वही 

मौसम आ जाना है |

बाहर जाने का 

सैर सपाटे का मन है 

काश हम भी

 सैर सपाटा कर पाते |

मन में तो अरमान न  बचे रहते  

खूब आनन्द मनाते 

  यह न रहता कि

 हमने सैर नहीं  की |

अपने अरमान सजाते गाते गुनगुनाते

दूर जंगल में निकल जाते 

मोर संग नाचते 

चिड़ियों संग ऊपर आसमान में उड़ते   |

 छत पर जा रंगीन पतंग 

संग पैच लड़ाते 

काटा है  ,काटा है कह

 चिल्लाते  खुशी मनाते   

 धूप निकल आती कठिन होता

 पतंग बाजी करना |

माँ के पास जाकर  बहुत

 प्यार से गुड़ तिल खाते 

अपने मित्रों के घर भी जाते

 सभी बड़ों के पैर छूते |

जब कोई आशीष देता

 मन में गर्व का  अनुभव करते 

मकर संक्रांति का दिन कैसे कटता

 यह भी भूल जाते |
दिन  में पतंग बाजी कर

 इतने थक जाते

कहाँ सोएं यह तक याद नहीं रहता 

 खाना खाना ही भूल जाते |

आशा सक्सेना 



10 जनवरी, 2023

हाइकू

 

 



1-जीवन जियो 
खुश हाल रहोगे 
अपेक्षा यही 

२-प्यार करोगे 
तुम्हें वही मिलेगा 
स्नेह तुमको 

३-मौसम प्रिये
 खुश रंग हुआ है
आजाओ चलें 

४-गीत संगीत
मन को मोहरा है 
आकर्षक है 

५-प्यार तुम्हारा 
चाहत मेरी नहीं 
जाने दो मुझे 

६-प्रक्रति तेरी 
मुझ जैसी नहीं है
 मैं  जुदा रही 

७-मुझे गर्व है 
अपनी भाषा पर 
है यही हिन्दी 

८-मुझे नाज है 
मेरी  मात्र भाषा  है 
मीठी मधुर 

९-हिन्दी मधुर 
भाषा की सरमौर 
अच्छी लगती



आशा सक्सेना  

09 जनवरी, 2023

ख्याल मेरा तुम्हारा

 


ख्याल मेरा तुम्हारा है एक जैसा

यह तो ध्यान न दिया मैंने

पर जब तुम में परिवर्तन देखा

जब बहुत इसरार किया मैंने |

सोचा जैसा मैं सोचती हूँ

तुमने भी वही सोचा होगा

मैंने तुम्हारा अनुकरण किया

तुमने  भी वही किया होगा |

मुझे ठेस लगी यह जानकर  

 परिवर्तन तुम्हारा  देख कर

पर देख कर भी अनदेखा किया

फिर भी मन से नहीं |

यह मुझे भली न लगी क्लेश देने वाली  

 बेचैन किये रही कितने दिनों तक  

 किस से कहती मैंने भूल की तुम्हें आंकने में

 अब मेरे जैसे नहीं रहे यह किसे बताती | 

आशा सक्सेना  

08 जनवरी, 2023

उसके विचार कितने ओछे

 

कितना इसरार किया तुमने

फिर भी न मानी एक बात उसने

यह ज्यादती हुई कैसे किस लिए

 किसी दुश्मन ने सिखाया होगा उस को|

कान भरे होंगे उसके आए दिन 

मन विगलित हुआ होगा यह जान कर 

उसका रूप देख बहरूपिये  जैसा 

कितना कलुष भरा है मन में उसके

यह अभी देखा समझा है मन में |

 बड़ा दिखावा करती है जाने कितनों को छलती है 

सोच रही थी किसीने जाना न होगा 

पहचाना न होगा उसकी फ़ितरत को 

  यहीं मात खाई उसने तुम्हे वह जान न पाई |

सब जानते थे बहुत बारीखी से  उसे

तुम्हें सतर्क भी किया था पर तुम न समझे 

तुमने भी उसे अपने जैसा समझा |

सोचा पहली भूल को क्षमा किया जा सकता है 

तुम क्या जान पाए वह आदतन ही धोकेबाज है 

कहेगी कुछ करेगी क्या?कुछ कहा नहीं जा सकता 

तभी तुमने धोखा खाया है उसने तुम्हें ठुकराया है |

आशा सक्सेना