25 दिसंबर, 2021

बड़ा दिन आया




बड़े दिन की हार्दिक शुभ कामनाएं 
 
बड़ा दिन आया खुशियाँ ले 

 बड़े इन्तजार के बाद

                चिलमन से झांकते छिपते छिपाते 

कोरोना के उपद्रव से भयभीत रहा पहले  |

कहीं यह त्यौहार भी ना फीका हो जाए   

फिर से हुआ यदि  लौक डाउन

कहीं सान्ता क्लाज न फँस जाए

आज के झमेलों में |

हमने बहुत सी तैयारियां की है

उसके स्वागत के लिए

 हैं बड़े उत्साहित कब वह आए

हमें मन चाहे पुरुस्कार दे पाए |

जो खुशी उससे हमें मिलती

               बयान करने को शब्द नहीं मिलते

उनकी गरिमा कुछ और ही होती

तभी होती इतनी बेकरारी

 इस के  आने की राह देखने की |

 


आशा

 

 

24 दिसंबर, 2021

तुमसे सीखा


                                    तुमसे  सीखा कठिन परिश्रम
                                      दृढ़ निश्चयी होना सीखा 

कितनी भी कठिनाई आए

मार्ग से विचलित न होना सीखा |

कायर सा मुहं छिपाकर

भूमिगत हो जाना न सीखा

किसी की कही बात पर

ध्यान न देना नहीं सीखा |

यही गुण मेरे जीवन के बने आधार

 कभी भी  मात न खाई

ना  कभी कोई कठिनाई आई

मैं सरलता से उससे उभर पाई |

बस एक बात मुझे खली

तब तुम न थे साथ मेरे

मुझे प्रोत्साहित  करने को

 प्रगति में सहायक होने को |

तब भी तुम्हारी  कमीं ने मुझे

जो सहन शक्ति की प्रदान तुमने 

किसी का एहसान न लेना सिखाया

अपने पैरों पर खडी हुई  |

 यही जिन्दगी का फलसफा हुआ

अब भी खड़ी हूँ अडिग सच्चाई पर

 झूट से कौसों दूर रही  हूँ

तुम्हारी सीख को  भूली नहीं हूँ |

आशा  


कोई कठिनाई नहीं


 

किया कुछ और 

चाह थी किसी और की 
किया तुम्हारा अनुकरण 
फिर भी कोई कठिनाई न हुई |
जीवन में आते व्यवधानों से सीखा
उन का मनन किया
गलत विचार को नकारा
सही पर ही ध्यान दिया |
आज जहां हूँ संतुष्ट हूँ
कल कठिन परीक्षा से गुज़री
अब उसे याद क्यूँ करूं
किस लिए करूं |
लोगों ने मेरा भाग्य सराहा
मुझे प्रोत्साहित किया
है अनुग्रह तुम्हारा भुलाना चाहा
पर मैंने ऐसा न किया |
हूँ तुम्हारी अनुगामीन
तुम्हारा बरद हस्त है
जब सर पर मेरे
मुझे चिंता नहीं है |
आशा


21 दिसंबर, 2021

अधूरे जीवन में परिवर्तन


 

जीवन में आती धूप छाँव

सुबह और शाम

 कोई परिवर्तन न देखा

यही क्रम जारी रहा जीवन भर |

 आते व्यवधानों से जिन्दगी में 

  चलना सीखा काँटों से बच कर 

ऊबड़ खाबड़ कन्टकीर्ण सड़क पर  

जिसे पार करना सरल न था |

मुझे  ठोकर लगी जब 

उसी ने  सहारा दिया 

 गिरने पर सम्हाला

 बड़े जतन  से उठाया |

 मुझे गंतव्य तक पहुंचाया

कोई तो है मददगार मेरा

 वही मेरा हमराज हुआ 

बोझ मन का कम हुआ |

जब वक्त पर आ खड़ा  हुआ 

 बैसाखी बन कर सहारा दिया 

मुझमें साहस का संचार हुआ 

खुद पर विश्वास जाग्रत हुआ |

मेरे अधूरे जीवन में बहार आई  

उसकी जरासी सहायता से 

 जिन्दगी मेरी सवर गई 

उसके हाथ बढाने से |

अधूरे जीवन में परिवर्तन आया  

सुबह और शाम में

धुप और छाँव में स्पष्ट 

अंतर नजर आया |  

आशा

20 दिसंबर, 2021

फूल गुलाब का

                                                                                                                                  

                                         


                                         खिला गुलाब                                              

बाग़ में  डाल पर 

सोचता रहा 

उसके जीवन की 

 क्या कहती कहानी 

कभी कली रही थी 

पत्तों में छुपी 

पत्तियों  के कक्ष से 

झांकती कली 

खिली पंखुड़ी सारी 

फूल खिला है 

हुआ  लाल गुलाब 

वह अकेला  नहीं 

झूलता रहा

रक्षक रहे  पास 

बचाते रहे 

उसको  बैरियों से 

तितलियों की 

भौरों की छेड़ छाड़

उसे  भाती है 

प्यार दुलार उनका 

स्वीकार किया 

वायु बेग सहना 

भी सीख लिया 

 उससे बचने की 

कोशिश न की 

विरोध की क्षमता 

नहीं  है अब 

देख लिया  जीवन 

मन मुदित

हुआ जीवन पूर्ण 

प्रभु के  चरण में 

खुद को वहां    

  अर्पित कर दिया  |  

आशा 



19 दिसंबर, 2021

आत्म कथा पुष्प की


 दिन डाली पर झूल बिताया 

रात भर सोया चैन से 

सुबह  ओस से नहाया 

हुआ मुग्ध  अपने रूप रंग पर|

हुआ  जब समय डाल से बिछुड़ने का 

माली ने सजाया  सवारा 

प्यार से दुलराया  फिर विदा किया |

अब मिला स्थान मुझे 

   गुलदस्ते के एक कौने में  

जो  गया एक हाथ से दूसरे  में  

मुझे सराहना कोई न भूला 

 महिममंडन खूब  हुआ मेरा 

गर्व   हुआ अपने आप पर  |

कड़ी धुप सहन की फिर भी न मुरझाया 

किया सूर्य किरणों  से मुकाबला 

बचने में  खुद को सक्षम पाया 

मन बल्लियों उछला |

मैंने  माली का  धन्यवाद किया 

जिसने प्यार से पाला पोसा 

मुझे सक्षम बनाया

 अपने पैरों पर खड़ा किया |

 मुझे यहीं जीने का

 सच्चा  आनन्द मिला 

अपनी क्षमता जान सका   

खुद को पहचान सका |

जब देखा शहीदों की अर्थी

 पर सजा खुद को 

मन में देश भक्ति जाग्रत हुई 

एक बार फिर मुझे खुद पर गर्व  हुआ |

आशा