Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

12 मई, 2012

अंतर्प्रवाह


कई विधाएं जीवन की
धाराओं में सिमटीं
संगम में हुईं  एकत्र
प्रवाहित हुईं
लिया रूप नदिया का 
 विचारों की नदिया सतत
बहती निरंतर
 भाव नैया में बैठ
चप्पू चलाए शब्दों के
कई बार हिचकोले खाए
नाव डगमगाई
 उर्मियों की बाहों में
फिर भी तट तक पहुच पाया
ना खोया  अंतर्प्रवाह में
प्रतिबन्ध लगे
निष्काषित हुआ
सहायता भी ना मिल पाई
भटका यहाँ वहाँ
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर
कई सवालिया चिन्ह लगे
बात बढ़ी बहस छिड़ी

तब भी कहीं ना  रुक पाया
विचारों की सरिता में फिर से
प्रवाह मान  ऐसा हुआ
 विचार व्यक्त करने से
स्वयं को ना रोक पाया |
आशा






09 मई, 2012

आँखें नम ना करना


निकली जो आहें  दिल से
पहुंचे यदि तुम तक मत  सुनना
मेरे दिल सा तुम्हारा दिल भी टूटे ना
तपती धूप में भी 
तुम्हारे पैर कभी जलें ना
अंधकार में भी भय तुम्हें हो ना
सुकून तुम्हें  ना दे पाऊँ 
ऐसा  कभी हो ना
मेरे जैसा सोच तुम्हारा
 निराशा लिए हो ना
रात्रि में साम्राज्य 
अनिद्रा का कभी हो ना
छू ना पाए कभी उदासी
कांटे भी दामन तुम्हारा
 छू पाएं  ना
झूटी कसमें झूठे वादों का 
भरम तुम्हे हो ना
करना ना स्वीकार 
कभी ऐसा  बंधन
जो स्वीकार्य तुम्हें हो ना
 कारण मेरी उदासी का खोजना ना
जान भी लो तो कभी
 सच मानना ना
 रख के दूर उसे खुद से 
नृत्य देखना मोर का
पर उसके आंसुओं पर जाना ना
उसके पैरों में
 पायल हैं या नहीं
या कहीं गुम हो गईं सोचना ना
कोयल सी कुहुकती रहना
वन उपवन महकाना
दुःख के सागर में खो
 आँखें नम ना करना |
आशा 

06 मई, 2012

महिमा अति की

रसना रस में पगी 
शब्दों में मिठास घुली 
आल्हादित मन कर गयी 
सुफल सकारथ कर गयी
पर अति मिठास से 
कानों में जब मिश्री घुली 
हुआ संशय मन में
पीछे  से कोई वार न कर जाए 
अति मिठास कडवी लगी 
दरारें दिल में दिखीं 
तभी जान पाए 
महिमा अति की |
सच  ही कहा था किसी ने
"अति सर्वत्र वर्ज्यते"
पर तब केवल पढ़ा था
आज उसे देख पाए |
आशा