13 मार्च, 2021

सच और झूट का अंतर

 

किस ने कहा तुमसे  हर बात  

जैसी  की तैसी  ही मान लो |

अपनी बुद्धि भी कभी  तो  खर्च करो

 ज्यादा नहीं तो कुछ तो लाभ हो  |

केवल कानों से  सुने और निकाल दें

यूँ ही आडम्बर जान यह भी ठीक  नहीं |

कभी सच्ची  बात नजर नहीं आती

जब झूटी अपना  फन फैलाती |

मुस्कान  तिरोहित हो जाती जब सच्चाई समक्ष  आती |

सच  झूट में  दूरी है  बहुत  कम जान लो

 आँख और  कान का है जितना फासला पहचान लो |

12 मार्च, 2021

भाग्य में क्या लिखा है

 यह मेरी समझ से बाहर है

मेरे भाग्य में क्या लिखा है ?

जब भी आकलन करना चाहूँ  

स्वयं पर हंसी आती है मुझे |

क्या फिजूल की बातें ले बैठा

विचारों की कोई सीमा नहीं है

वे बहते हैं नदी के जल के प्रवाह से

कभी रुकते हैं किसी बड़ी बाधा से  |

पर कभी उस का भी प्रभाव नकार देते हैं

मनमानी करने की जिद्द ठान लेते हैं

दोराहे पर खडा हूँ किसे अपनाऊँ 

 पर बड़ा दुःख दे जाते हैं

 यही मुझे सालता रहता है |

 इस झमेले से कैसे निजात पाऊँ

खुद  सम्हल कर पाँव बढाऊँ

जब खुद पर ही नियंत्रण नहीं रहा मेरा  

किसी और को क्या समझाऊँ |

आशा

11 मार्च, 2021

iशिवरात्रि

 


शिवजी की बरात निकली

 बहुत धूमधाम से

शिव पार्वती मिलन हुआ

विधि विधान से |

पार्वती ने पाया था

 मनोनुकूल वर

कठिन तपस्या से

तभी नाम हुआ अपर्णा उनका   |

रूप अनूप जोड़ी का

 देखते नहीं थकते दृग

दर्शन हुए बड़े भाग्य से |

हर वर्ष मनाया जाता

विवाह उत्सव उनका

 शिवरात्रि के रूप में |

बेल पत्र व् पुष्प चढ़ाते  

हल्दी कुमकुम दूध चढाते  

 भोग लगाया जाता

विधि विधान से |

उपवास दिन भर रखते

फल फूल से पेट भरते

भोले नाथ की माला जपते

बहुत यत्न से  |

मन चाहा पाने की

  लालसा सदा रही  मन में

 वरद हस्त प्रभू का

  सर पर हो  सदा  

यही रहा  मन  में |

आशा

 

10 मार्च, 2021

कारण समझ न पाई

राह देखती रही तुम्हारी

पर तुम न आए

मुझसे हो क्यूँ क्रोधित

समझती हूँ मैं भी |

यदि बात नहीं करनी थी

 न सामने आते  

पुराने घावों को

उघाड़ते ही क्यों ?

केवल  एक झलक दिखाई दी

 यह  किस लिए

क्या जरूरी है

हर बात बताऊँ तुम्हें |

जैसी स्वतंत्रता तूमने  चाही

 वैसी  ही मैंने अपनाई

क्या  नहीं है  यही   नियम मेरे लिए |

समाज से डरने के लिए

मुझे ही बलि का बकरा  बनाया

सही बात पर भी

मेरा नाम मिटाया

दिल के श्याम पट से |

 कैसा विधान  अपनाया तुमने

जो   वादे किये थे मुझसे

फिर क्यों न पूरे किये तुमने |

कभी ठन्डे मन से सोचना

क्या अकेली मेरी ही खता रही  सारी  

या मुझे उलझाया गया है

 किसी साजिश में |

 नहीं चाहती  अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता  

मुझे कुछ तो  बुद्धि आई होगी  

देख कर  दुनिया के छल प्रपन्च   

  उनका पीछा करता मानव देख |

 मन मेरा भी  होना चाहता

  सराबोर  आधुनिकता के  रंग में

 पर   बोझ से दबा

  है इसी उपक्रम में |

क्या चाहती हूँ सोच नहीं पाती

हूँ मैं क्या समझ से बाहर है

मैंने तुम्हें समझा है पर खुद को नहीं

अभी तक कारण समझ न पाई |

आशा 

09 मार्च, 2021

खुशबू तेरी


 

महक  तेरी रोज फैल जाती थी 

सारे चौवारे में

जैसे ही कदम रखती 

 भरी  महफिल में |

यदि  होती तू दूर नहीं  

सभी की नज़रों से

तुझे जो प्यार दुलार 

मिला करता था घर में

 वही प्यार दुलार  क्या महसूस किया

 तूमने भी  भरी महफिल में |

पर मेरी निगाहों को  कहीं

अंतर नजर आया दौनों  में

लोगों  की सोच ने  विशिष्ट

रंग दिया  मेरे नजरिये को |

जब एक बार बना ख्याल

तुम्हारे  लिए मन में

मैं कई  बार विचार करती हूँ

किसी एक बात पर

सोच को अटल कर लेना

 है यह कितना  न्याय संगत?

 कितनी उथली हो गई है सोच मेरी

मेरे मस्तिष्क ने मुझे चेताया |

महफिल में अलग सी  गंध 

 फैल जाती तुम्हारे आने से

 किया अनुभव जो मैंने 

बहुतों ने महसूस किया वही  अंतर

उस महक और आज की खुशबू में |

यह परिवर्तन मैंने ही नहीं पर

औरों की अनुभवी आँखों  ने भी इसे पहचाना 

 उम्र का है यही तकाजा मान

सोचा और नजर अंदाज किया | 

आशा 

08 मार्च, 2021

आज अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस है


 

आज  अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस है

साल २१  का पहला नेट का  त्यौहार है

 कोई तो दान करो ए अंतर जाल वालों

मेरा विश्वास करो या नहीं

पर मेरी बात को तो मानोंगे

अब फिर  इस वर्ष लौट कर न आएगा

कोई बाध्यता नहीं  है पर  किसी का तो सम्मान करों

 दिल से न सही  दिखावे के लिए ही सहीं

यही तो खर्च होगा एक फूल माला

 और एक कप चाय या कॉफी  प्रति व्यक्ति

फिर अखवारों में कोई एक मुद्दा उछलेगा

क्या क्यों किसलिए जैसे प्रश्न उछलेंगे

 कुछ अनोखा नहीं करना है

किसी सड़क चलती महिला को ऊपर उठाना है

बधाई दो देना बनाती ही हैं

बधाई और शुभ कामनाएं आज की महिला कर्मियों को |

आशा