Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

11 जून, 2011

यहाँ कुछ नहीं बदलता


जब देखे अनेक चित्र
ओर कई रँग उसके
जाने की इच्छा हुई
अनुभव बढ़ाना चाहा |

समझाया भी गया
वहाँ कुछ भी नहीं है
जैसा दिखता है
वैसा नहीं है |

पंक है अधिक
कुछ खास नहीं है
जो भी वहाँ जाता है
उसमें फंसता जाता है|

पर कुछ पौधे ऐसे हैं
जो वहाँ ही पनपते हैं
फलते फूलते हैं
हरे भरे रहते हैं |

राजनीति है ऐसा दलदल
जहां नोटों की है हरियाली
जो भी वहाँ जाता है
आकण्ठ डूबता जाता है |

सारी शिक्षा सारे उसूल भूल
सत्ता के मद में हो सराबोर
जिस ओर हवा बहती है
वह भी बहता जाता है |

उस में इतना रम जाता है
वह भूल जाता है
वह क्या था क्या हो गया है
अस्तित्व तक गुम हो गया है |

कभी तिनके सा
हवा में बहता है
फिर गिर कर उस दलदल में
डूबने लगता है |

तब कोई मदद नहीं करता
आगे आ हाथ नहीं थामता
है यह ऐसा दलदल
यहाँ कुछ भी नहीं बदलता |


आशा












10 जून, 2011

हर कहानी अधूरी है


कई कथानक कई कहानियां
पढ़ी सुनी और मनन किया
पर हर कहानी अधूरी लगी
थी अच्छी फिर भी कहीं कमी थी |
जीवन के किसी एक पक्ष को
करती है वह उजागर
पर जो भी कहा जाता है
पूरे जीवन का सत्व नहीं है |
अनगिनत घटनाएं
होती रहती हैं
कुछ तो यादगार होती हैं
भुला दिया जाता कुछ को |
कभी अच्छी लगती हैं
आघात कभी दे जाती हैं
यदि बहुत विचार किया
मन चंचल कर जाती हैं |
अंत जीवन का हो
या कहानी का
जब भी लिखा जाए
अधूरा ही रह जाता है |
कितना भी विचार कर
लिखा जाए
आगे और भी
लिखा जा सकता है |
इसी लिए लगता है
हर कहानी चाहे जैसे लिखी जाए
उसके आगे और भी
लिखा जा सकता है |

आशा



08 जून, 2011

है यह कैसा प्रजातंत्र


सत्य कथन सत्य आचरण
देश हित के लिए
बढ़ने लगे कदम
सोचा है प्रजातंत्र यहाँ
अपने विचार स्पष्ट कहना
है अधिकार यहाँ |
उसी अधिकार का उपयोग किया
सत्य कहा
कुछ गलत ना किया
फिर भी एक चिंगारी ने
पूरा पंडाल जला डाला
कितने ही आह्त हुए
गिनती तक ना हो पाई
सक्षम की लाठी चली
आंसुओं की धार बही
धारा थी इतनी प्रवाल कि
विचारों को भी बहा ले चली |
दूर दूर तक वे फैले
जनमानस में
चेतना भरने लगे
उन्हें जाग्रत करने के लिए
फिर भी अंदर ही अंदर
सक्षम को भी हिला गए |
स्वतंत्र रूप से अपने विचार
सांझा करने का अधिकार
क्या यहाँ नहीं है
जब कि देश का है नागरिक
स्वतंत्रता अभिव्यक्ति की नहीं है |
आज भी बरसों बाद भी
मानसिकता वही है
जोर जबरदस्ती करने की
अपना अपना घर भरने की
आदत गई नहीं है |
यदि कोई सही मुद्दा उठे
नृशंसता पूर्ण कदम उठा
उसे दबा देने की
इच्छा मरी नहीं है |
है यह कैसा प्रजातंत्र
जो खून के आंसू रुलाता है
है कुछ लोगों की जागीर
उनको ही महत्त्व देता है |
यदि कोई अन्य बोले
होता है प्रहार इतना भारी
जड़ से ही हिला देता है
पूरी यही कोशिश होती है
फिर से कोई ना मुंह खोले |

आशा




07 जून, 2011

वास्तविकता कोयल की


जैसे ही ग्रीष्म ऋतु आई

जीवों में बेचैनी छाई

वृक्ष आम के बौरों से लदे

आगई बहार आम्र फल की |

पक्षियों की चहचाहट

कम सुनने को मिलती थी

मीठी तान सुनाती कोयल

ना जाने कहाँ से आई |

प्रकृति सर्वथा भिन्न उसकी

रात भर शांत रहती थी

होते ही भोर चहकती थी

उसकी मधुर स्वर लहरी

दिन भर सुनाई देती थी |

जब पेड़ पर फल नहीं होंगे

जाने कहाँ चली जाएगी

मधुर स्वर सुनाई न दे पाएंगे

वातावरण में उदासी छाएगी |

दिखती सुंदर नहीं

कौए जैसी दिखती है

पर मीठी तान उसकी

ध्यान आकर्षित करती है |

घर अपना वह नही बनाती

कौए के घोसले में चुपके से

अंडे दे कर उड़ जाती

वह जान तक नहीं पाता |

ठगा जाता नहीं पहचानता

ये हैं किसके ,उसके अण्डों के साथ

उन्हें भी सेता बड़े जतन से

गर्मीं दे देखभाल करता |

बच्चे दुनिया में आ, बड़े होते

जब तक वह यह जानता

वे उसके नहीं हैं

तब तक वे उड़ चुके होते |

कहलाता कागा चतुर

फिर भी ठगा जाता है

है अन्याय नहीं क्या ?

कोयल का रंग काला

पर है मन भी काला

कौए सा चालाक पक्षी भी

उससे धोखा खा जाता |

आशा