Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

20 सितंबर, 2014

यही सत्य है




सागर तरंगित
उर्मियों के उन्माद से
होती हलचल
पूनम के प्रभाव से
ऊपर हलचल
अंतस में ठहराव
अनुपम है |
सैलाव भावनाओं का
तरंगित उर्मियों सा
उन्मुक्त विचार
कहीं नहीं टकराव
अदभुद  है |
तटबंध नहीं टूटते
जब भी रौद्र रूप अपनाए
वही भाव प्रगट होते
बिना किसी परिवर्तन के
अंतर मन के मंथन से
अपेक्षित है |
जाने अनजाने
अनवरत दृष्टिगत होते
रंग भरे केनवास पर
दर्शाते मन की झलक
कभी मौन हो जाते
हलचल विहीन सागर से
यही सत्य है |
आशा

17 सितंबर, 2014

रीती आँखें



निगाहेंयार का
करम देखिये
भटकाव झेलना
सिखा रहे हैं |
रुसवाई का है सबब ऐसा
ना कोई गिला
ना शिकवा शिकायत
दूर होते जा रहे हैं ||
एक कतरा भी
आंसुओं का न टपका
रीती आँखों से
 निहार रहे हैं |
दीन दुनिया से
दूर बहुत
मानो जुदाई का
 जश्न मना रहे हैं |

आशा

15 सितंबर, 2014

काले कागा




चतुर कागा
बैठा मुढ़ेर पर
संकेत देता
अपनों के आने का
खुशियाँ दिलाने का |


काले कागा आ
नैवेध्य तेरे लिए
मैंने बनाया
यत्न से तुझे न्योता
आज श्राद्ध पक्ष में |...

कोयल कागा
दौनों  का एक रंग
चंट कोयल
उसको  छका देती
 कागा को  ठग लेती  |

है हतप्रभ
बाल कोयल देख
बच्चों के संग
कोयल के  अंडे थे
कागा ने बड़े किये |



आशा