Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

06 अक्तूबर, 2011

अवसाद में


सारी बीती उन बातों में , कोई भी सार नहीं ,
सार्थक चर्चा करने का भी , कोई अधिकार नहीं |
प्रीत की रीत न निभा पाया , मुझे आश्चर्य नहीं ,
सोचा मैंने क्या व हुआ क्या, अब सरोकार नहीं |
वे रातें काली स्याह सी , जाने कहाँ खो गईं ,
बातें कैसे अधरों तक आईं , जलती आग हो गईं |
आती जाती वह दिख जाती , डूबती अवसाद में ,
ऐसा मैंने कुछ न किया था , जो थी ज्वाला उसमें |

आशा


05 अक्तूबर, 2011

कल्पना

प्रत्यक्ष में जो दिखाई दे
कल्पना में समा जाए
जो कभी ना भी सोचा
कल्पना में होता जाए |
होता आधार उसक
केवल मन की उपज नहीं
होता अनंत विस्तार
कल्पना की झील का |
परिवर्तित होता आयाम
स्थूल रूप पा कर भी
कभी कम तो कभी
अधिक होता |
अपने किसी को दूर पा
कई विचार मन में आते
कल्पना का विस्तार पा
मन में हलचल कर जाते |
जो भी जैसा होता
वैसा ही सोच उसका होता
कल्पना में डूब कर
तिल का ताड़ बना देता |
धर्म और जातीय समीकरण
कई बार बिगडते बनाते
वैमनस्य बढता जाता
जब कल्पना के पंख लगते |
हर रोज जन्म लेती
कोइ नई कल्पना
फलती फूलती
और पल्लवित होती |
नहीं अंत कोई उसका
स्वप्न भी जो दिखाई देता
होता समन्वय और संगम
कल्पना और सोचा का |
आशा





03 अक्तूबर, 2011

दीवारें


वे चाहते नहीं बातें बनें
ना ही ऐसी वे बढ़ें
खिंचती जाएँ दीवारें दिल में
प्यार दिखाई ना पड़े |
हो सौहार्द और समन्वय
सभी हिलमिल कर रहें
सदभावपर जो भारी हो
कोइ फितरत ऐसी ना हो |
धर्म और भाषा विवाद को
तूल यदि दिया गया
दीवारें खिचती जाएँगी
दरारें भर ना पाएंगी |

आशा


02 अक्तूबर, 2011

स्वार्थ

दिन बदले बदली तारीखें
ऋतुओं ने भी करवट ली
है वही सूरज वही धरती
ओर है वही अम्बर
चाँद सितारे तक ना बदले
पर बदल रहा इनसान |
सृष्टि के कण कण में बसते
तरह तरह के जीव
परिष्कृत मस्तिष्क लिये
है मनुष्य भी उनमें से एक |
फिर भी बाज नहीं आता
बुद्धि के दुरुपयोग से
प्राकृतिक संसाधनों के
अत्यधिक दोहन से |
अति सदा दुखदाई होती
आपदा का कारण बनती
कठिनाई में ढकेलती
दुष्परिणामों को जान कर भी
वह बना रहता अनजान |
बढ़ती आकांक्षाओं के लिये
आधुनिकता की दौड़ में
विज्ञान का आधार ले
है लिप्त स्वार्थ सिद्धि में
जब भी होगा असंतुलन
वही
तो होग कोप भाजन
प्रकृति के असंतुलन
ओर बिगड़ते समीकरण
भारी पड़ेगे उसी पर |
ले जाएंगे कहाँ
यह तक नहीं सोचता
वही कार्य दोहराता है
बस जीता है अपनी
स्वार्थ सिद्धि के लिये |
आशा