14 नवंबर, 2015

खिली धूप

खिली  धूप के लिए चित्र परिणाम

खिली धूप
स्पर्श मद मंद वायु बेग का
ले चला मुझे
स्वप्निल आकाश में
वर्तमान हुआ धूमिल
जीने लगा
 यादों के साए में
यही है भेद
सत्य और कल्पना में
सत्य जो भी रहा हो
कल्पना तो महान है |
आशा

12 नवंबर, 2015

रिश्ते कितने किस सीमा तक


 

आये अकेले इस जग में
जाना कब है पता नहीं है
पर अपनाए गए रिश्तों को
बिना विचारे ढोते ही जाना है
ये रिश्ते बने कैसे
कहना सरल नहीं है
पर बंधन में बंधते ही
इनसे बचने की राह नहीं है  
 रिश्ते जनम जनम के होते
सात जन्मों तक निभाने  को 
कच्चे धागे से बंधे हैं
है बंधन अटूट  फिर भी  इनका
जिसे   बिना सोचे समझे
जीवन  पर्यंत निभाना है
बंद  आँखें कर चलते जाना है
रिश्ते कैसे कैसे 
कुछ जन्म से
 कुछ मान्य  या थोपे गए
पर रिश्ते तो रिश्ते हैं
उन्हें परवान चढ़ाना है    
कुछ रिश्ते अनचाहे 
अनजाने में बनते हैं
शायद यही दर्द  के रिश्ते हैं 
लव से कुछ बिना कहे
मन की भाषा समझते हैं
जब जन्में थे अकेले ही
 उनमें क्यूं बंध जाना है
हर रिश्ते की है  अपनी सीमा 
पर अपेक्षाएं भी कम नहीं
कितनी किसे प्राथमिकता दें
यह भी सुनिश्चित नहीं
प्राथमिकता का क्रम
यदि बिगड़ जाए
दरारें दिल में बढ़ती जाएं
कई सोच उभरने लगते हैं
हो रिश्तों की दूकान क्यूं
दिखावे की भरमार क्यूं
जब अकेले ही आये थे
अकेले ही जाना है |
आशा

10 नवंबर, 2015

दीप जलाओ


diip jalaao के लिए चित्र परिणाम
हो मुदित  दीपक जलाओ
प्यार से उपहार लाओ
प्यार बांटो प्यार पाओ
इस क्षण भंगुर जीवन में
यही पल मधुर लगते हैं
इन्हें जियो जितना चाहो
बाती कपास की स्नेह से भरपूर
अपना स्वत्व भूल स्वयं जलती है
पर जग जगमग करती है
उसी भाव को अपनाओ
स्नेह के दीपक जलाओ
मेल मिलाप भाईचारा  
हैं इस पर्व की विशेषता
मन से इनको अपनाओ
सौहार्द का आग़ाज कर
तिमिर को दूर भगाओ
है यह पावन पर्व रौशनी का
दीप जलाओ दीप जलाओ
मन का अन्धकार मिटाओ |
आशा


सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...