Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

15 जून, 2012

चाँद ने चांदनी लुटाई


 चाँद ने चांदनी लुटाई
शरद पूनम की रात में
सुहावनी मनभावनी
फैली शीतलता धरनी पर
कवि हृदय विछोह उसका
सह नहीं पाते
दूर उससे रह नहीं पाते
हैं वे हृदयहीन
जो इसे अनुभव नहीं करते
इसमें उठते ज्वार को
महसूस नहीं करते
कई बार इसकी छुअन
इसका आकर्षण
ले जाती  बीते दिनों में
वे पल जीवंत हो उठते  
आज भी यादों में
है याद मुझे वह रात
 एक बार गुजारी थी
शरद पूर्णिमा पर ताज में
अनोखा सौंदर्य लिए वह
जगमगा रहा था रात्रि  में
आयतें  जो उकेरी गईं
चमक उनकी  हुई दुगनी
उस हसीन  चांदनी में
आज भी वह दृश्य
नजर आता है
बंद पलकों  के होते ही  
बीते पल में ले जाता है
उस  शरद पूर्णिमा की
याद दिलाता है |
आशा

12 जून, 2012

मार मंहगाई की

हुआ मुख विवर्ण 
सारी रंगत गुम हो गयी 
कारण किसे बताए 
मंहगाई असीम हो गयी 
सारा राशन हुआ समाप्त 
मुंह  चिढाया डिब्बों ने 
पैसों  का डिब्बा भी खाली 
उधारी भी कितनी करती
वह कैसे घर चलाए 
बदहाली से छूट पाए
मंहगाई का यह आलम 
जाने कहाँ ले जाएगा 
और न जाने कितने
रंग दिखाएगा
दामों की सीमा पार हुई 
कुछ  भी  सस्ता नहीं
पेट्रोल की  कीमत बढ़ी 
कीमतें और बढानें लगीं 
वह देख रही  यह दारुण मंजर
भरी  भरी आँखों से
है  यह ऐसी समस्या 
सुरसा  सा मुंह है इसका
थमने का नाम नहीं लेती 
और विकृत होती जाती 
इससे कैसे जूझ पाएगी 
मन को कितना समझाएगी
किसी  की छोटी सी फरमाइश भी
दिल को छलनी कर जाएगी |
इसकी  मार है इतनी गहरी
कैसे सहन कर पाएगी |


आशा





10 जून, 2012

प्रेम और प्यार

है जाने क्या विभेद 
प्यार और प्रेम में 
हैं पर्याय एक दूसरे के 
या अर्थ भिन्न उनके 
इहिलौकिक या पारलौकिक 
आत्मिक या भौतिक
 या ऐसी भावनाएं
जो भ्रम में डुबोए रखें
ये हैं  पत्थर पर पड़ी लकीरें
जो  मिटना नहीं चाहतीं 
और मिट भी नहीं सकतीं 
चाहे जो परिवर्तन आए
या   बदलाव नहीं आए
अनेक विचार कई तर्क 
संबद्ध हुए इनसे 
यदि गहन चिंतन करें 
भावनाएं प्रवल  दिखाई देतीं 
बढते दुःख की पराकाष्ठा
जब भी मन को छू जाती 
अन्धकार में
जलते  दिए की एक किरण
दिखाई तब भी दे जाती
उसी ओर मैं खिंचता   जाता
इसे ही सुखद  संकेत मान
प्यार लिए उसका ह्रदय में
 आगे को   बढता जाता 
शायद यही प्रेम है
 या प्यार मेरा उसके  लिए
मैं उसे प्यार करता हूँ
क्यूँ कि  है वह  देश मेरा |