23 जनवरी, 2019

अवसाद




a
अवसाद





थी   प्रसन्न  अपना घर  संसार बना कर
व्यस्तता ऎसी बढ़ी
 कि खुद के वजूद को  भूली
वह यहाँ आ कर ऐसी उलझी
 समय ही न मिला खुद पर सोचने का
जब भी सोचना प्रारम्भ किया
मन में हुक सी उठी
वह क्या थी ?क्या हो गई ?
क्या बनना चाहती थी ?
क्या से क्या होकर रह  गई ?
 अब तो  है निरीह प्राणी
अवसाद में डूबती उतराती
सब के इशारों पर भौरे सी नाचती 
रह गई है  हाथ की कठपुतली हो कर
ना सोच पाई इस से   अधिक कुछ
कहाँ खो  गई आत्मा की  आवाज उसकी
यूँ तो याद नहीं आती पुरानी घटनाएं
 जब आती हैं अवसाद से भर देती हैं 
 मन   ब्यथित कर जाती हैं
उसका अस्तित्व कहीं  गुम हो गया है
उसे  खोजती है या अस्तित्व उसे
कौन किसे खोजता है?
है एक  बड़ी पहेली जिसमें उलझ कर रह गई है 
अवसाद में फँसी ऐसी कि
कोई मार्ग नहीं मिलता आजाद होने का
 अपना अस्तित्व खोजने  का 
  समस्याओं का समाधान खोजने का |

आशा

22 जनवरी, 2019

जिए जा रहे हैं


जिए जा  रहे हैं 
मर मर कर जिए जा  रहे हैं
जीवन को खींछे  जा   रहे हैं
जिन्दगी की गाड़ी न थमती
 उसे ही ढोना है
आखिर कब तक सहारा देगा
न जाने कब थम जाएगा
कौन जाने क्या होगा  
पर हमने हार न मानी है
खून पसीना एक कर
साहस जुटा रहे हैं
हर समस्या का समाधान
जितनी भी कठिनाई आए
कोशिश उसे हल करने की
मन में जुटा रहे हैं
मोर्चा छोड़ नहीं  रहे हैं
जीने की इच्छा आहत हुई है
हो गई है  बोझ अचानक
उसे ही सहे जा  रहे है
एक पहिया हुआ खराब
अब बारी है दूसरे की
जब तक जीना है
कुछ एसा ही सहना है|

आशा

19 जनवरी, 2019

जब भी देखा उसने


जब भी  देखा उसने
 हसरत भरी निगाहों से
मन की बात
 जवान पर आ ही गई
पर अचानक चुप्पी देखी 
जब देखा शब्दों का
 टोटा हुआ है
मूंह  तक आते आते 
 कहीं अटक जाते 
जाने कहाँ खो जाते 
सोचने को बाध्य हुआ
ऐसा क्या करूँ कि 
अपनी बात स्पष्ट कर पाऊं
तभी एक करिश्मा हुआ
न जाना कैसे उसने
 मेरे दिल की बात सुन ली
जीवन खुशरंग हुआ 
 मेरी जिन्दगी  में
दूध में चीनी की तरह 
 वह इक नई  जिन्दगीं
 सी घुलने लगी मुझमें |
आशा 


18 जनवरी, 2019

प्यार नहीं तो और क्या है ?















छिप छिपकर
 परदे की ओट से झांकना
कमरे में बेचैन हो
 चक्कर काटना
सुध बुध खो
 दरवाजे पर नजरें टिकाना
यह प्यार  नहीं तो और क्या है ?
मिलने पर नजरें चुराना शर्माना
और अधिक शोख हो जाना
यहाँ प्यार नहीं तो और क्या है ?
ध्यान  न रहे
 बेकरारी में  बेहाल हो
कभी हंसना
 रूठने का नाटक करना
झूटमूट में नयनॉ का  डबडबाना
यह प्यार नहीं है तो क्या है ?
मन के भाव 
 उजागर हो जाते है
अन्दर से हाँ 
ऊपर से ना  करना
मनुहार करवाना
 रूठने का नाटक करना
यह प्यार नहीं तो और क्या है ?
आशा
  




मानवता


हुई मानवता शर्मसार
रोज  देखकर  अखवार
बस एक ही सार हर बार
मनुज के मूल्यों का हो रहा हनन   
 ह्रास उनका परिलक्षित
 होता हर बात में
आसपास क्या हो रहा
 वह नहीं  जानता
जानना भी न चाहता
है लिप्त आकंठ 
निजी स्वार्थ की पूर्ति में
किसी भी हद तक जा सकता है
समवेदना की कमीं हुई है
दर्द किसी का अनुभव न होता
वह केवल अपने मे
 सिमट कर रह गया है
सोच विकृत हो गया है
दया प्रेम  क्या  होता है
 वह नहीं जानता
 वह भाव शून्य  हुआ है 
मतलब कैसे पूरा हो
बस  वह यही जानता
आचरण भृष्ट चरित्र निकृष्ट
और क्या समझें
है यही सब चरम पर
मानवता शर्मसार हुई है
अनियंत्रित व्यबहार से 
चरित्र क्षरण  हो गया है 
आए दिन की बात 
समाज में विकृतियों का आवास
यह  हनन नहीं है तो कया ?
मानव  मूल्यों का |
आशा

17 जनवरी, 2019

दोस्त

न्यूज़ फ़ीड


दोस्ती होती दिल से
कोई जोर जबरदस्ती नहीं
जब मन मिल जाएं
कोई उसे तोड़ नहीं सकता
है यह एक ऐसी  भावना
जो हो जुड़ी दिल से
सच्ची मित्रता यदि हो
सही सलाह दे पाए
आड़े समय पर काम आए
वही दोस्त कहलाए
यही उसकी होती परख
दोस्ती की मिसाल है
कृष्ण सुदामा का प्यार
यहाँ बड़ा छोटा नहीं होता
बस प्यार ही प्यार होता |
आशा

16 जनवरी, 2019

पतंग





व्योम  में मीना बाजार सजा

अनगिनत रंगबिरंगी छोटी बड़ी पतंगें

उड़ने को तैयार हुईं सजबज कर

नैनों  से नैनों के पैच

 लड़ाने का रहता उद्देश्य प्रमुख

जब पतंग उड़ने लगती

ढील से मांझे की पेंच लड़ाए जाते

जब पतंग कट जाती शोर मचाते बालक

लाड़ली पतंग  आई है

 साथ में साली भी आई है

बेचारी कटी पतंग अकेली
आसमान में उड़ती
फिर धराशाही हो जाती 
लूट ली जाती 
 न जाने कितने छंद  बनाए जाते
माइक पर सुनाए जाते
पूरा आनंद उठाते पतंगबाजी का

गुड तिल बाँट प्रेम भाव दर्शाते  

संक्रांति होती बहुत धूमधाम से |
आशा