PALASH

23 अगस्त, 2019

हाईकू






१-जिए जाते हैं
मन पर है  बोझ 
कैसे उतारें 

२-मन भारी है
दुर्दशा देख कर
देश बेहाल

३-स्वतंत्र देश
पर सुकून कहाँ
जिसे खोजते

३-मन में शोक
गहन उपजता
व्यवस्था देख

आशा |

22 अगस्त, 2019

हथकड़ी



बंधे  हाथ दोनो
समाज के नियमों से
है बंधन इतना सशक्त 
तिलभर भी नहीं  खसकता
कोई इससे बच  नहीं पाता 
यदि बचना भी चाहे तो
वह नागपाश सा कसता  जाता
यदि कोई इससे भागना चाहता 
भागते भागते हार जाता
पर कभी यह प्यारा भी लगता
सामाजिक बंधन बने हुए
कुछ नियमों से
हित छिपा होता इनमें
समाज के उत्थान का
हूँ एक सामाजिक प्राणी
वहीं मुझे जीना मरना है
तभी तो भाग नहीं पाती इससे
खुद ही बाँध लिया  है
इसमें अपने को  
अपनी मन मर्जी से  |
आशा


20 अगस्त, 2019

शिला









पति कोप से हुई  श्रापित
शिला हुई  गौतम नारी बेचारी
युग बीता अहिल्या बनी साक्षी
 उस काल की घटनाओं की
कितनी ऋतुएँ आई गईं
शिला पर परत गर्त की चढ़ती गई
इस रूप में जीते जीते वह हारी
 तब निदान   जानना चाहा
तभी ऋषी ने उपाय बताया
त्रेतायुग में जब श्री राम के
चरण रज शिला पर पड़ेगे 
तभी उसे श्राप से मुक्ति मिलेगी
और समय बीता
 वह उस  काल की साक्षी हुई   
राम नाम के जाप से
 वह राम में खो गई
हार नहीं मानी उसने
 पथरा  गईं आँखें  बाट जोहते  
जैसे ही  प्रभु राम के
 चरण पड़े शिला पर
माथे पर चरण रज लगी
अहिल्या पाप  मुक्त हो गई
 फिर से सजीव  नारी हो गई |
आशा

19 अगस्त, 2019

क्षणिकाएं



१-कितनी मुश्किल में हैं
तब भी खिलखिलाते हैं
सभी गम भूल जाते हैं
तेरी एक मुस्कान  पर  |

२-दो नयना तेरे लगते हों ऐसे
जैसे हों छलकते प्याले शराब के
लगता है सिमट आया है
सारा मयखाना यहीं पर |

३-सभी सुकून पा रहे
डूब कर जाम में
और और की रत लगा रहे
जाम  खाली  ले हाथों में  |

४-छलके  जाम पर जाम इस प्रकार
   मानों  कोई बंदिश नहीं थी उन पर
 दुनिया की   समस्याओं से दूर कर रहा 
उन से मुक्त हो नया कुछ लिख रहा |

आशा



14 अगस्त, 2019

तस्वीर भारत की










                                                      तस्वीर भारत की -

      अखंड सम्रद्ध भारत की छवि
          सोने  की  चिड़िया  की तस्वीर   
 जाने कब से मन में पनप रही थी
बचपन ने आँखें खोली थीं
 परतंत्र देश में
तभी से यह था  अरमान
 कोई बलिदान व्यर्थ ना जाएं 
भारत स्वतंत्र हो पाए
स्वतंत्र भारत में खुल कर
 सांस लेने की कल्पना थी बलवती
बहुत उत्सुकता से
आन्दोलनों की बात सुनते थे
कभी प्रश्न भी करते थे
 इससे क्या लाभ होगा ?
उत्तर से संतुष्ट हो कर
 कल्पना में खो जाते थे
धीरे धीरे कल्पना के पंख लगे
बनने लगी तसवीर अखंड भारत की
स्वतंत्र भारत हुआ
कई कठिनाइयों का किया सामना  
पर दृढ इच्छा शक्ति से
पार किया सभी को
इतने वर्षों के बाद
 धारा ३७० पर कार्य कर
बहुत बड़ी उपलब्धी पाई
अखंड भारत की तस्वीर उभर कर आई |

13 अगस्त, 2019

कोशिश



                                       जितनी भी कोशिश करलो
                                       कुछ  फल प्राप्त  नहीं होता
हो यदी भाग्य सहायक
 दृढ इच्छा शक्ति हो  मन में   
तभी इच्छा पूर्ण होती है
इसे पाने में गहन चिंतन
 मनन करना पड़ता है
कोशिश बिना किये ही
कुछ  तब भी नहीं मिल  पाता
सारे प्रयत्न एक साथ हों तभी
कुछ सार निकल पाता है
चाहपूरी हो पाती है |
                                              आशा

11 अगस्त, 2019

तू ही है गीत मेरा








तू ही है गीत मेरा
तू है गीत मेरी हर एक धड़कन का
जाने क्यूँ मुझसे रूठा है
कभी मन में झाँक कर देखा होता
तभी कोई निर्णय करता
प्यार इक तरफा नहीं होता
कहीं न कहीं किसी ने
बरगलाया है तुझे मेरे खिलाफ
पर दूसरों की दखलंदाजी
मुझे पसंद नहीं आती
मेरे पास बैठ कर
उलझन सुलझाई होती
कारण रुसवाई का जाना होता
सच्चाई का पता चलता
मैं कितना प्यार करती हूँ तुझे
मेरी हर श्वास में
वजूद धड़कता है तेरा
है तू ही गीत मेरी हर  धड़कन का 
तू ही है गीत मेरा संगीत मेरा |
आशा