23 मार्च, 2018

बदला

                                                                                                                                       
शब्द है बड़ा छोटा सा
पर अर्थ बड़ा गंभीर
जिसने उसे जैसा सोचा
उसी के अनुरूप कार्य किया   
बदले में वह क्या चाहता
प्रेम स्नेह ममता
 या कुछ नहीं
किसी से प्रेम करे तब
जरूरी नहीं बदले में
उसे भी प्यार मिले
निष्काम भाव से किया कार्य  
तब उसके मन को
 इच्छित फल के लिए
बेचैन नहीं होना होता
फल मिले य न मिले
उसे क्षोभ नहीं होता  
ना ही उपजती 
 भावना बदले की 
मन शांत बना रहता
 स्थिति को
 जब पहुँच पाएं
तब अपार   शान्ति
 हो चहु ओर
बदला मन को 
अशांति ही देता
सुख समृद्धि नहीं |
आशा

21 मार्च, 2018

एहसास



 ऊंची उड़ान भरना के लिए इमेज परिणाम

होता है एहसास मन को
छोटे से छोटा
प्रत्यक्ष हो या परोक्ष
मन होता है साक्षी उसका
जब होती है आहट
पक्षियों के कलरव की
जान जाती हूँ देख भोर का तारा
मन को मनाती हूँ
सूर्य का स्वागत करना है
आलस्य को परे हटा
पैर जमीन पर रख कर 
हो जाती हूँ व्यस्त 
रोज की  दिनचर्या में
व्यस्त समय में एहसास तो होते हैं
पर तीव्रता कम 
जानते हो क्यूँ ?
समय नहीं होता
सोचने विचारने का 
उन पर प्रतिक्रया का
यही एहसास देता है
मन को रवानगी
मन विश्राम नहीं चाहता
देना चाहता है पहचान
 छोटे से छोटे एहसास को 
उसकी छुअन को
पर समय साथ नहीं देता
वह आधे अधूरे को छोड़
पलायन कर जाता 
फिर लौटकर नहीं  आता 
कभी नीले आसमान में
पंख फैलाए उड़ने की चाह में
टकटकी लगा मन उड़ना चाहे
कल्पना में पहुंचे ऎसे स्थलों पर 
जहां कभी गए ही नहीं
पर मन हो जाता मगन  
उसके ही से एहसास से
एहसास हो जाता है गुम
कभी स्वप्नों में कभी छुअन में 
रह जाता है सुप्त भावनाओं में 
है एहसास मात्र मन की सोच  |
आशा


20 मार्च, 2018

हाईकू (परीक्षा)









                                                                 
   
                                                                      १-कब क्यों कहाँ    
प्रश्न अनेको यहाँ
न मिले हल

२-बुद्धि चाहती
पर मन न लगे
कैसे हो हल

३-है क्या जरूरी
सब कुछ हल हो
न किया तो क्या

४-प्रश्न ही प्रश्न
स्वप्न में दीखते
उत्तर नहीं

५-मन की पीर
पीड़ित ही जानता
और न कोई


आशा

सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...