Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

11 मई, 2013

विराम सृजन का



शनेशने बढ़ते जीवन में 
कई बिम्ब उभरे बिखरे 
बीती घटनाएं ,नवीन भाव 
लुका छिपी खेलते मन में 
बहुत छूटा कुछ ही रहा 
जिज्ञासा को विराम न मिला 
अनवरत पढ़ना लिखना 
चल रहा था चलता रहा 
कुछ से प्रशंसा मिली 
कई निशब्द ही रहे 
अनजाने में मन उचटा 
व्यवधान भी आता रहा
मानसिक थकान भी 
जब तब  सताती
जाने कितना कुछ है 
विचारों के समुन्दर में 
कैसे उसे समेटूं 
पन्नों पर सजाऊँ 
बड़ा विचित्र यह
 विधान विधि का
असीमित घटना क्रम 
नित्य नए प्रयोग 
यहाँ वहां बिखरे बिखरे 
सहेजना उनको 
लगता असंभव सा तभी
दिया विराम लेखन को 
जो पहले लिखा
 उसी पर ही
मनन प्रारम्भ किया 
यादें सजीव  हो उठीं 
उन में फिर से खोने लगा  
अशक्त तन मन को
 उसी में रमता देख 
वहीं हिचकोले लेने लगा 
शायद है यही पूर्णविराम 
सृजन की दुनिया का |
आशा



08 मई, 2013

आधुनिक बिटिया


खून पसीने से सींचा 
पालापोसा बड़ा किया 
जाने कितनी रातें
 आँखों आँखों में काटीं
पर उसे कष्ट न होने दिया 
पढ़ाया लिखाया 
सक्षम बनाया 
जो हो सकता था किया
पर रही पालने में कही कमीं 
बेटी बेटी न रही 
कितनी बदल गयी 
जिस पर रश्क होता था 
कहीं गुम हो गयी
जाने कब खून सफेद हुआ 
संस्कार तक भूली 
धन का मद ऐसा चढ़ा
खुद में सिमट कर रह गयी 
यही व्यवहार उसका 
मन पर वार करता
 आहत कर जाता 
हो अपना खून या पराया 
रिश्ता तो रिश्ता ही है 
 सूत के कच्चे  धागे सा 
अधिक तनाव न सह पाता
 झटके से टूट जाता 
ममता आहत होती
दूरी बढ़ती जाती |




06 मई, 2013

चिड़िया

एक चिड़िया नन्हीं सी 
टुवी टुवी करती
प्रसंनमना उड़ती फिरती 
डालियों पर 
एक से दूसरी पर जाती 
लेती आनंद झूलने का 
एकाएक राह भूली 
झांका खिड़की से 
भ्रमित चकित 
कक्ष में आई 
चारो ओर दृष्टिपात करती
पहले यहाँ वहां बैठी 
सोच रही  वह कहाँ आ गयी 
दर्पण देख रुकी 
टुवी टुवी करती
मारी चोंच उस पर 
आहत हो कुछ ठहरी
फिर वार पर वार किये 
मन ने सोचा 
लगता कोइ दुश्मन 
जो उसे डराना चाहता 
पर यह था केवल भ्रम
उसके अपने मन का 
यूं ही आहत हुई 
जान नहीं पाई 
कोई अन्य न था 
था उसका ही अक्स 
जिससे वह जूझ  रही थी 
बिना बात यूं ही 
भयभीत हो रही थी |
आशा