03 जनवरी, 2015

वरण नए चोले का


एक दिन वह सो गया 
लोगों ने कहा वह मर गया 
मृत्यु का वरण किया
और अमर हो गया 
पर सच यह  नहीं क्या ?
आत्मा ने घर छोड़ा
वस्त्र बदले मोह त्यागा 
नया चोला धारण किया 
नवीन गृह प्रवेश किया 
अनादी अनंत आत्मा 
कभी मृत नहीं होती 
बारबार वस्त्र बदलती 
नया चोला धारण करती 
 अनंत में विचरण करती
जब मन होता उसका
गोद किसी की भरती
कोई घर आबाद करती 

आशा

31 दिसंबर, 2014

विगत --आगत {हाईकू गुच्छ )


बीतता आज ---

हुआ विदीर्ण
 मनवा विगलित
त्रासदी देख  |


कैसा दरिंदा
मर्यादा भूल गया
हैवान हुआ |

दिन या रात
नहीं है सुरक्षित
है कमसिन |

आगत वर्ष ---

आगत वर्ष
दे रहा दस्तक
आने के लिए |

नवीन वर्ष
आया सम्रद्धि लिए
स्वागत करो |

स्वच्छ भारत
हो सम्रद्ध भारत
अरमां यही |

है दुआ यही
आएं ढेरों खुशियाँ
नव वर्ष में |

स्वागत नव वर्ष का ---

स्वागतम
नव वर्ष तुम्हारा
सुखमय हो |

ना ही कटुता
आने वाले कल में
आये मन में |


सौहार्द पले
जाग्रत जगत हो
अम्बर तले |

नवल वर्ष
सजधज के आया
उत्साह जगा |


आशा



30 दिसंबर, 2014

तारा आकाश में


नीलाम्बर में
एकल धूमकेतु
अनर्थ न हो |
एक सितारा
घूम रहा आवारा
सितम ढाता |

प्यारा सा तारा
टिमटिम करता
उसे बुलाता |
हर्षित मन
चमकते सितारे
लगते प्यारे |
आकाश गंगा
संगम है तारों का
असंख्य तारे |
आशा

सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...