02 अगस्त, 2018

सपनों का संसार अनूठा


थकी हारी रात को 
जब नयन बंद करती 
पड़ जाती निढाल शैया पर 
जब नींद का होता आगमन  
स्वप्न चले आते बेझिझक !
यूँ तो याद नहीं रहते 
पर यदि रह जाते भूले से 
मन को दुविधा से भर देते 
मन में बार बार आघात होता 
होता ऐसा क्यूँ ? 
जब स्वप्न रंगीन होता 
मन प्रसन्नता से भरता 
पर जब देखती 
किसी अपने को सपने में  
चौंक कर उठ बैठती !
सोचती कहीं कुछ बुरा होने को है 
ज़रूरी नहीं हर स्वप्न 
कोई सन्देश दे !
भोर की बेला में 
जो स्वप्न दिखाई देते 
अधिकतर सच ही होते 
जहाँ कभी गए ही नहीं 
स्वप्नों में वे ही दिखाई देते !
पर एक बात ज़रूर होती 
चाहे जहाँ भी घूमती 
प्रमुख पात्र मैं ही होती ! 
कुछ लोग दिन में 
जागती आँखों से भी स्वप्न देखते 
दिवा स्वप्न में ऐसे व्यस्त होते 
कल्पना में खो जाते 
खुद की सुध बुध खो बैठते ! 

आशा सक्सेना 






30 जुलाई, 2018

सावन

समाचार फ़



आया महीना सावन का
घिर आए बदरवाकाले भूरे 
टिपटिप बरसी बूँदें जल की
हरियाया पत्ता पत्ता
सारी सृष्टि का
धरती हुई हरी भरी
प्रकृति हुई समृद्ध
ईश्वर की कृपा से |
बच्चों ने की जिद
डलवाया झूला आँगन में
पूरा आनंद उठाया
 ऊंचाई को छूने का  
रिमझिम का
गरम गरम भजियों का
बहनें राह देख रहीं
भाई के आने की
साथ साथ रक्षाबंधन
मनाने की प्यार बांटने की |
आशा

सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...