09 फ़रवरी, 2013

वह पल



बौराता  अमवा
महका वन उपवन
चली वासंती पवन
बसंत में रंग गयी
फूलों से लदी  डालियाँ
झूमती अटखेलियाँ करतीं
आपस में चुहल करतीं
बहार आगमन की सूचक वे
बीता कल याद दिला जातीं
यादे ताजी कर जातीं
कुछ नई और जुड़ जातीं
यादें होती बेमानीं
लौट कर न आनीं
पर होती मीठी सी
 रह न पाती अनजान  उनसे
जब पलकें  अपनी मूँदूं
दृष्टि पटल से वे गुजरतीं
जाने कब गाड़ी थम जाती
आगे बढ़ना नहीं चाहती
बंद घड़ी के कांटे सी
वहीँ ठिठक कर रह जाती
उस पल को भरपूर जीती
वह लम्हा विशिष्ट होता
सारे दुःख पीछे रह जाते
सुख के झरने झरझर झरते
फिरसे नव ऊर्जा भरते
उन्मुक्त कदम आगे बढते|
आशा 
 

06 फ़रवरी, 2013

प्रकृतिके अनमोल नज़ारे


(१) प्रकृति के अनमोल नजारे 
लगते बहुत प्यारे 
आँखोंमें बस गए 
रंग जीवन में भर गए |

(२) इधर  पत्थर उधर पत्थर
जिधर देखो उधर पत्थर
जमाने की अनुभूतियों ने
बना दिया मुझे पत्थर |

आशा

05 फ़रवरी, 2013

सड़क

सड़क को कम न समझो 
बड़ा महत्त्व रखती है 
सब का भार वहन करती है 
बड़ा  संघर्ष करती है 
कोई  आये कोई जाए 
वह कहीं नहीं जाती 
गिला शिकवा नहीं करती 
हर  आने जाने वाले के 
मनोभाव तोलती है |
है  बच्चों की वह प्रिय सहेली 
बनती रेस का ट्रेक 
कभी क्रिकेट का मैदान होती
विकेट  रखती समेत
सब मिलते सुबह शाम यहीं 
सबको प्यारी  लगती
है  मानक देश की समृद्धि की 
और जीवन रेखा प्रदेश की
वह कितना भार वहन करती है
 यह किसी ने नहीं  देखा
इस  पर हुए अत्याचार कई
सब ने अनदेखा किया
इसका महत्त्व न जाना 
यही बात मन को 
बहुत दुखी करती है
यह है अपनी  सड़क 
बहुत महत्त्व रखती है |
आशा




03 फ़रवरी, 2013

बंद करके जुगनुओं को

बंद करके जुगनुओं को
अपने पास रखा है
एक छोटे से कमरे में
उन्हें छिपा रखा है
|जब भी वे चमकें
रौशनी करें
केवल मेरे ही लिए हो
किसी और का सांझा न हो
सांझा चूल्हा मुझे नहीं भाता 
मन  अशांत कर जाता
तभी  तो एकाकीपन मैंने
सम्हाल कर रखा
बड़े यत्न  से
सदुपयोग उसका किया
एकांत पलों को भी जीना
सीख लिया है
अब परिवर्तन नहीं चाहती
एकांत का महत्त्व जान गयी
अपूर्व शान्ति पाते ही
कुछ सोच उभरते हैं
जिनके अपने मतलब होते हैं
यह अदभुद प्रयास
है नमूना एक
सार्थक जीवन जीने  का |

सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...