23 नवंबर, 2013

मतदाता





यूं तो है अंगूठाटेक
पर सजग सचेत
दुनिया किधर जा रही है
हर नब्ज परखता है
हर कदम पहचानता  है
जानता है महत्व  वोट का
है वह भाग्य विधाता
नेता जी के भविष्य का
उत्सुक भी है कब
मशीन में बंद भाग्य
 नेता का होगा
जो भी नेता आता है
खुद को मददगार बताता
झुक झुक कर प्रणाम करता
फिर खोलता पिटारा वादों का
पर आज का मतदाता 
भ्रम नहीं पालता
तत्काल मांगे पूरी हों
यह लिखित में चाहता
आज जो भी मिल रहा है
पूरा उपभोग उसका करता
कल की क्यूं फिक्र करे
वह बदला लेना जान गया है
होगा कल क्या पहचान गया है |
आशा

21 नवंबर, 2013

प्रत्याशी






भीड़ तंत्र का एक भाग
घूम घूम करता प्रचार
पूर्ण शक्ति झोंक देता
चुनाव जीतने के लिए |
है वह आज का नेता
आज ही उतरा सड़क पर
लोगों से भेट करने
बड़ी बड़ी बातें करने |
वह थकता नहीं सभाओं में 
प्रतिपक्ष की पोल बता
झूठे वादे करते
अपनी उपलब्धियां गिनवाते |
है केवल एक ही चिंता उसे
जितनी पूंजी झोंक रहा है
अगले पांच वर्ष में
 कैसे चौगुनी होगी |
कुर्सी से चिपके रहने की युक्ति
देशहित को परे हटाती  
वह खोज रहा अपना भविष्य
आने वाले कल में |
आशा






18 नवंबर, 2013

क्षणिकाएं

शुभ घड़ी शुभ दिन 
शुभ वर्ष की बातें करते हो 
जो भी अशुभ हो रहा 
नजरअंदाज करते हो 
निश्प्रह क्यूं नहीं रहते 
क्यूं दुभांत करते हो |
(२)
प्यार का कोई मोहताज नहीं होता 
वह स्वयं ही उपजता है 
अपनीउपस्थिति दर्ज करा कर
फिर तिरोहित हो जाता है |
(३)
है वही सफल 
शिखर तक पहुँचने में 
जो है निर्भय निडर 
हलके से धक्के से 
नहीं जाता बिखर |


सरल सहज सजीले शब्द

  सुलभ सहज सजीले शब्द जब करते अनहद नाद मन चंचल करते जाते अनोखा सुकून दे जाते कर जाते उसे निहाल | प्रीत की रीत निभा दिल से   जीने...