Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

25 अगस्त, 2012

गोरैया बचाओ

उस कार्य से मोहब्बत करो 
जिससे तुम्हें सुकून मिले 
कुछ शान्ति का अनुभाव  हो
कुछ करने का अहसास जगे |
गौरैया  बचाओ 
दाना  चिड़ियों को खिलाओ
पक्षिओं से प्यार करो 
अपना घर आबाद करो |
आशा

24 अगस्त, 2012

असीम कृपा उसकी



किया कभी ना पूजन अर्चन
ना ही दान धर्म किया
करतल ध्वनि के साथ
ना ही भजन  कीर्तन किया
पोथी भी कोइ न पढ़ी
छप्पन व्यंजन सजा थाल में
भोग भी न लगा पाया |
पर उस पर अटल विश्वास से
कर्म किया निष्काम भाव से
हो दृढ़ संकल्प कदम बढ़ाए
निष्ठा से पूर्ण मनोयोग से
कर्म स्थली को जाना परखा
उस पर ही ध्यानकिया केंद्रित 
असीम कृपा उसकी हुई
बिना मांगे मुराद मिली
तभी तो यह जान पाया
छप्पन भोग से नही कोइ नाता
है  केवल  वह भाव का भूखा
असीम कृपा जब उसकी होगी
कहीं कमीं नहीं होगी | 
आशा 

22 अगस्त, 2012


 मुझे आप सब को यह बताते हुए बहुत हर्ष हो रहा है कि मेरी कविताओं का दूसरा संकलन"अंतःप्रवाह "प्रकाशित हो गया है |
 अंतःप्रवाह

19 अगस्त, 2012

सबब उदासी का

आज के  जन मानस में 
रहती निष्प्रह नितांत अकेली 
दिखती मितभाषी 
स्मित मुस्कान बिखेरती
उदासी  फिर भी छाई रहती
उससे अलग न हो पाती
पर सबब उदासी का
किसी से न बांटती
जब  भी मन  टटोलना चाहा
शब्द अधरों तकआकार रुक जाते
अश्रुओं के आवेगा में  खो जाते
 असहज हो अपने आप में खो जाती
फिर  भी हर बात उसकी
अपनी और आकृष्ट करती
कई विचार आते जाते
पर निष्कर्ष तक न पहुच  पाते
एक दिन वह  चली गयी
संपर्क  सूत्र तब भी ना टूटे
समाज सेवा ध्येय बनाया
पूरी निष्ठा सेअपनाया
व्यस्तता बढती गयी
उदासी  फिर भी न गयी
वह दुनिया भी छोड़ गयी
कोइ उसे समझ ना पाया
क्या चाहती थी जान न पाया
था क्या राज उदासी का
समझ  नहीं  पाया
राज राज ही रह गया
उसी के साथ चला गया |
आशा