Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

04 अप्रैल, 2019

शाला का प्रथम दिन


नया बस्ता नई यूनीफार्म
उत्साह अधिक शाला जाने का
 अपनी सहेलियों से मिलाने का
पर वह अकेली  है उदास
उसकी  नई ड्रेस नहीं आई अभी तक  
बहुत बेमन से पुरानी ड्रेस पहन कर
अलग अलग जाती दीखती
मन की बात किससे कहे
अभी तक पैसों का जुगाड़ नहीं हुआ है
नया सामान लाने को
मां ने कहा है
 अभी इसी से काम चलाओ
अगले मांह कुछ तो जुगाड़ होगा
है वह बहुत असमंजस में
कैसे सामना करेगी
 अपनी अध्यापिका का 
आए दिन सजा मिलेगी
बिना यूनीफार्म के आने की
वह कैसे कहेगी
 अभी पैसे नहीं हैं
 पर मन में ललक
 शाला जाने की कम नहीं
रोज अपनी अवमानना कैसे सहेगी
शायद यही है प्रारब्ध उसका
उसे  स्वीकार करना होगा
                                                               पर मनोबल कम न होगा 
                                             आशा

03 अप्रैल, 2019

रूप तेरा







रूप तेरा पूनम के चाँद सा
चेहरा सजा साज  सिंगार से
माथे पर कुमकुम का टीका
खुशबू से अंग अंग महका |
केश विन्यास सुन्दर तेरा  
बड़े सलीके से सजाया गया है
श्वेत पुष्पों की माला से|
मृगनयनी चंचल चपल  
 हैं नैन बड़े  विशाल  तेरे
पैनी उनकी धार से  जब करते कटाक्ष
हृदय विदीर्ण हो जाता |
चाहे जितने करू उपचार
 दर्द कम न होता
जब चलते नैनों के बाण  तीखे
घाव दिल के नहीं भरते |
नैनों में कजरे की गहरी  रेखा   
आकार बढ़ा देतीं इतना
लगता पूरा कैद कर लेंगी मुझे
क्यूँ न मैं समा जाऊं उनमें |
हाथों की उंगलियों से  
 मुंह छिपाने की कोशिश
 मैं एकटक देखता रहूँ
पलकें भी न झपकाऊँ |
तेरी यह अद्भुद छवि और अधिक
 आकर्षित  करती मुझे
मन में भय रहता सदा ही  
किसी की नजर न लगे तुझे |
                                             आशा

शायद



                                   है शब्द  बहुत सामान्य सा
पर करतब इसके बहुत बड़े
जब भी उपयोग में लाया जाता
कुछ नया रंग दिखलाता
किन्तु परन्तु की उलझने
सदा  अपने साथ लाता
जब भी शायद का उपयोग होता
वह मन में बिछे उलझनों के जाल में
ऐसा फंसता जैसे
 मीन बिन जल के तड़पती
हरबार असमंजस होता हावी
क्या करे ? कैसे करे?
यह यदि किया होता
दुविधा से सरलता से  निकल पाता
उलझन से छुटकारा पाता
इस शब्द की आराधना
पड़ती बहुत मंहगी
उससे बच  कर जो रहता
दुखों से दूरी  बनाकर चलता
वही सफल हो पाता
किन्तु , परन्तु ,क्या, क्यों ,कैसे
के जाल से मन को मुक्त कर पाता
                                सहज भाव से जीवन  जी पाता 
                                             |आशा

02 अप्रैल, 2019

फलसफा प्रजातंत्र का

बंद ठण्डे कमरों में बैठी सरकार
नीति निर्धारित करती 
पालनार्थ आदेश पारित करती 
पर अर्थ का अनर्थ ही होता 
मंहगाई सर चढ़ बोलती 
नीति जनता तक जब पहुँचती 
अधिभार लिए होती 
हर बार भाव बढ़ जाते 
या वस्तु अनुपलब्ध होती 
पर यह जद्दोजहद केवल 
आम आदमी तक ही सीमित होती 
नीति निर्धारकों को 
छू तक नहीं पाती 
धनी और धनी हो जाते 
निर्धन ठगे से रह जाते 
बीच वाले मज़े लेते ! 
न तो दुःख ही बाँटते 
न दर्द की दवा ही देते 
ये नीति नियम किसलिए और 
किसके लिए बनते हैं 
आज तक समझ न आया ! 
प्रजातंत्र का फलसफा 
कोई समझ न पाया ! 
शायद इसीलिये किसीने कहा 
पहले वाले दिन बहुत अच्छे थे 
वर्तमान मन को न भाया !

01 अप्रैल, 2019

शरारत




















बच्चों की शरारतों की
बचपन की प्यारी बाते
जब भी याद आती हैं
हंसने के लिए काफी हैं|
जब अति हो जाती है
गुस्सा बहुत आता है
पर भोली सूरत देख कर
वह कहीं खो जाता है |
जब भी एक पर करते क्रोध
दूसरा बचाने आ जाता
अरे छोड़ो मां अभी बच्चा है
कहकर उसे बचा ले जाता |
फिर बाहर जा कर हँसी के मारे
लोटपोट होता जाता
कहता मां भी कितनी भोली है
जल्दी से पट जाती है |
शरारत और बचपन  का
आपस में रिश्ता है अनुपम 
दौनों एक दूसरे के अनुपूरक 
अधूरे एक दूसरे के बिना |
आशा



आशा