03 अप्रैल, 2019

रूप तेरा







रूप तेरा पूनम के चाँद सा
चेहरा सजा साज  सिंगार से
माथे पर कुमकुम का टीका
खुशबू से अंग अंग महका |
केश विन्यास सुन्दर तेरा  
बड़े सलीके से सजाया गया है
श्वेत पुष्पों की माला से|
मृगनयनी चंचल चपल  
 हैं नैन बड़े  विशाल  तेरे
पैनी उनकी धार से  जब करते कटाक्ष
हृदय विदीर्ण हो जाता |
चाहे जितने करू उपचार
 दर्द कम न होता
जब चलते नैनों के बाण  तीखे
घाव दिल के नहीं भरते |
नैनों में कजरे की गहरी  रेखा   
आकार बढ़ा देतीं इतना
लगता पूरा कैद कर लेंगी मुझे
क्यूँ न मैं समा जाऊं उनमें |
हाथों की उंगलियों से  
 मुंह छिपाने की कोशिश
 मैं एकटक देखता रहूँ
पलकें भी न झपकाऊँ |
तेरी यह अद्भुद छवि और अधिक
 आकर्षित  करती मुझे
मन में भय रहता सदा ही  
किसी की नजर न लगे तुझे |
                                             आशा

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 4.4.19 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3295 में दिया जाएगा

    धन्यवाद सहित

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरूवार 4 अप्रैल 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर रचना ! बहुत सुन्दर सृजन !

    जवाब देंहटाएं
  4. धन्यवाद सर टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  5. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    जवाब देंहटाएं
  6. टिप्पणी के लिए धन्यवाद संजय
    आशा सक्सेना

    जवाब देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद अनिता जी |
      आशा

      हटाएं
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    ८ अप्रैल २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  9. कजरारे नैनो से बंधे अनुरागी मन की हृदयस्पर्शी भाव कथा आदरणीय आशा जी | सस्नेह शुभकामनायें |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: