09 मार्च, 2020

हाईकू






१-सागर सीपी
एक स्थान पर हैं
मोती है खरा

२-पानी मोती का
नूर चहरे का है
सच्चा परखा

३-गहरा नीला 
रंग पिचकारी का 
उसने डाला 

४-होली में रंगी  
हुई तरबतर 
 वस्त्र खराब 

५-गुजिया मीठी 
खाए सकलपारे
बड़े प्यार से 


६-खेली न  होली 
पूरे जोश से पर 
उसे न रंगा 

७-चढी है भंग 
है तरंग मन में 
रंग गहरा 

८-प्यार का रंग 
ऐसा चढ़ा मन पे 
छूट न पाया
आशा

10 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर हाइकु।
    --
    रंगों के महापर्व
    होली की बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 09 मार्च 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद यशोदा जी आज के अंक में मेरी रचना शामिल करने के लिए |

      हटाएं
  3. सुन्दर हाइकु प्रस्तुति।
    रंगों के महापर्व
    होली की बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद शास्त्री जी टिप्पणी के लिए |होली की शुभ कामनाएं आप को सपरिवार |

      हटाएं
  4. सुन्दर हाइकू ! चौथा हाइकू ठीक कर लें !

    जवाब देंहटाएं
  5. धन्यवाद साधना टिप्पणी के लिए |भूल सुधार ली है |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: