30 अप्रैल, 2019

कार्य सभी पूर्ण करने हैं

भोर होती है शाम होती है
रात यूँ ही गुजर जाती है
कुछ करो या नहीं
जिन्दगी यूँ ही तमाम होती है |
व्यर्थ है यूँ ही जीना
केवल अकारथ 
                                                   जीवन का बोझ ढ़ोना |
                                                  जब बुद्धि साथ छोड़ जाए
                                                    जीवन बोझ हो जाए
                                                        क्या फ़ायदा
                                                         ऐसे जीने का |
                                                    खुद से  प्रेम ना कभी किया
                                                 ना ही कुछ आनंद लिया
                                                    तब भी लालसा रही
                                               कुछ वक्त और मिल जाए
                                             अभी तो कई काम बाक़ी हैं |
                                               जब तक पूर्ण न हों सभी
                                     जीने का अरमां अभी बाक़ी है 
                                                 है यही कामना मेरी
                                              कोई अधूरा काम न छूटे|
                                        यदि सोचा हुआ सब पूर्ण हुआ
                                           प्रभु का सानिध्य पा 
                                              हो कर भक्ति में लीन 
                                           जीवन सफल हो जाएगा |

                                                      आशा

11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (01-05-2019) को "संस्कारों का गहना" (चर्चा अंक-3322) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. जीवन का सत्य यही है कि सभी लोगों को सभी कार्य पूरे करने हैं। इस चक्कर मे मन बहुत विचलित रहता है। सुंदर कविता।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. धन्यवाद नितीश जी |

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर!सार्थक सन्देश देती बेहतरीन प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: