01 मई, 2019

निष्ठा

                                   चाहत है जो कार्य लूं हाथ में 
पूरी निष्ठा से पूर्ण करूँ
 सारा जीवन अर्पित करूँ
देश हित के लिए|
हूँ समर्पित पूरी निष्ठा से
नहीं किसी के बहकावे में
ना ही अन्धानुकरण कर के
किया है  वादा खुद से|
लगन ऐसी लगी है अब तो
जब तक कार्य पूर्ण न होगा
चैन न लूंगी तब तक|
कर्तव्य पूर्ति  की लालसा
हुई जागृत जब से
अपने अधिकार  भूली तब से
सारी निष्ठा की समर्पित
देश की उन्नति  के लिए|
जान की भी परवाह नहीं है
सफलता हाथ लगेगी जब
पूरी लगन से होगा  समर्पण
 अपने कार्य के लिए  |
आशा

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत पसंद आई आपकी रचना और रचना में प्रयुक्त उपमाएं भी।

    जवाब देंहटाएं
  2. धन्यवाद संजय टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद सुमन जी |

      हटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सब को मजदूर दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ !!

    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 01/05/2019 की बुलेटिन, " १ मई - मजदूर दिवस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर आदरणीया
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन प्रस्तुति आशा दी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद अनुराधा जी टिप्पणी के लिए |

      हटाएं
  7. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज गुरुवार (02-05-2019) को " ब्लॉग पर एक साल " (चर्चा अंक-3323) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    ....
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  8. सुप्रभात
    मेरी रचना की सूचना देने के लिए धन्यवाद |

    जवाब देंहटाएं
  9. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    ६ मई २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      सूचना के लिए आभार श्वेता जी |

      हटाएं
  10. मन के सात्विक संकल्प की सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद मीना जी |

      हटाएं
  11. वाह!!आशा जी ,बहुत खूब!!

    जवाब देंहटाएं
  12. धन्यवाद शुभा जी टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  13. बेहतरीन सृजन....सादर नमस्कार

    जवाब देंहटाएं
  14. इसी निष्ठा की तो तलाश है देश को। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीय ।

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह ! यही निष्ठा हर भारतवासी का इष्ट होनी चाहिये ! सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: