29 सितंबर, 2016

परजीवी



ऐसी जिन्दगी का लाभ क्या
जो भार हुई स्वयं के लिए
हद यदि पार न की होती
भार जिन्दगी न होती |
औरों के लिए कुछ कर न सके
केवल स्वप्न बुनते रहे 
यदि जीवन अपना सवारा होता 
दूर हकीकत से न रहते |
 
दूर सत्य से सदा रहे
आज सत्य सामने है
छोटी बड़ी बातों के लिए
दूसरों पर आश्रित हुए |

आज हुए आश्रित दूसरों पर 
शरीर साथ नहीं देता
खुद कुछ कर नहीं  पाते
परजीवी हो कर रह गए |
आशा