15 सितंबर, 2016

वसुधैव कुटुम्बकम


Image result for नक्शा दुनिया का

इतनी विशाल दुनिया में
दूर दराज देशों में
रहते लोग  अनेक
परिवेश जिनके भिन्न
भाषाएँ हैं अनेक
बात जब होती
 वसुधैव  कुटुम्बकम की
तरह तरह के विवाद छिड़ते
कोई मत ना एक
 सागर है विशाल भाषाओं का
अलग अलग भाषाएँ बोलते
जब बहस होती
 कौनसी संपर्क भाषा हो 
 एक मत कभी न हो पाते
  महत्वपूर्ण  सभी भाषाएँ
 प्रत्येक भाषा  कद्दावर है
प्रचुर समृद्ध साहित्य लिए
फिर बहस किस लिए
 हिन्दी सरल सहज भाषा  
समृद्ध भाषा विज्ञान है
सभी भाषाओं के शब्द
आंचलिक हों या विदेशी
मिलते जाते हैं इसमें
 खीर में दूध और चावल जैसे
तभी कहा जाता है  
क्यों न अपनाया जाए इसे
पर क्या जरूरी  है
 इसे जन जन पर थोपा जाए
है आवश्यक प्रचार प्रसार
पर बिना बात  बहस न हो
जो सच्चे दिल से अपनाए इसे
उसका स्वागत किया जाए
पर अनादर किसी भाषा का ना हो
साहित्य सभी पढ़ा जाए 
सम्मान की क्या जरूरत 
अध्ययन की रूचि 
 जागृत कर दी जाए |
आशा