18 दिसंबर, 2009

मुक्तक

बस न केवल सड़क पर चलती है ,
आम आदमी के दिलों को जोड़ती है ,
कहीं कोई आये ,कहीं कोई जाये ,
वह तो मनोभावों को तोलती है |

आशा

1 टिप्पणी:

  1. सभी अगर बस की तरह निर्वैयक्तिक हो जायें तो कितना अच्छा हो । अच्छा मुक्तक ।

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: