30 जनवरी, 2010

मन चंचल

मन चंचल है ,
नहीं कुछ करने देता ,
तब सफलता हाथों से ,
कोसों दूर छिटक जाती है ,
उस चंचल पर नहीं नियंत्रण ,
इधर उधर भटकता है ,
और अधिक निष्क्रिय बनाता है ,
भटकाव यह मन का ,
नहीं कहीं का छोड़ेगा ,
बेचैनी बढ़ती जायेगी ,
अंतर मन झकझोरेगा ,
क्या पर्वत पर क्या सागर में ,
या फिर देव स्थान में ,
मिले यदि न शांति तो ,
क्या रखा है संसार में ,
साधन बहुत पर
जतन ना किया तब ,
यह जीवन व्यर्थ अभिमान है
मन चंचल यदि बाँध ना पाए ,
सकल कर्म निष्प्राण है |
आशा







2 टिप्‍पणियां:

  1. दार्शनिकता के रंग में डूबी सुन्दर रचना | बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  2. साधना जी ने सही कहा है शायद जीवन का एक सच भी है धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: