11 सितंबर, 2010

ज्योत्सना

मैं और तुम ,
सदा से ही साथ रहते हैं ,
नहीं है शिकायत मुझे तुमसे ,
मैं जानना चाहता हूं ,
क्या काले दाग हैं,
मेरे चेहरे पर ,
वे तुमने भी कभी देखे हैं ,
चांदनी ने कहा चाँद से ,
मैं हर पल साथ रहती हूं ,
तुम्हारी शीतल किरणें बिखेरती हूं ,
व्यथित मन को शान्ति देती हूं ,
यांमिनी का सौंदर्य बढा देती हूं ,
यह तुम्हारी ही तो देंन है ,
नदी का किनारा हो ,
और चांदनी रात हो ,
लोग घंटों गुजार देते हैं ,
तुम्हारी स्निग्धता और आकर्षण ,
उन्हें बांधे रहते हैं ,
मैने तुम मैं कोई कमी नहीं देखी ,
यदि तुम्हें कोई दोष देता है ,
वह नहीं जान पाया तुमको ,
मैं बस इतना जानती हूं ,
हूं ज्योत्सना तुम्हारी ,
पृथ्वी पर विचरण करती हूं ,
जैसे ही भोर होती है ,
साथ तुम्हारे चल देती हूं |
आशा

11 टिप्‍पणियां:

  1. चांदनी ने कहा चाँद से ,
    मैं हर पल साथ रहती हूं ,
    तुम्हारी शीतल किरणें बिखेरती हूं ,
    व्यथित मन को शान्ति देती हूं ,
    यांमिनी का सौंदर्य बढा देती हूं ,
    यह तुम्हारी ही तो देंन है
    --
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है!

    जवाब देंहटाएं
  2. गणेशचतुर्थी और ईद की मंगलमय कामनाये !

    अच्छी पंक्तिया लिखी है आपने ...

    इस पर अपनी राय दे :-
    (काबा - मुस्लिम तीर्थ या एक रहस्य ...)
    http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_11.html

    जवाब देंहटाएं
  3. तुम्हारी शीतल किरणें बिखेरती हूं ,
    व्यथित मन को शान्ति देती हूं सुन्दर अभिव्यक्ति ,

    जवाब देंहटाएं
  4. चाँद और चाँदनी ..बहुत खूबसूरत कविता ..

    जवाब देंहटाएं
  5. आपके ब्लॉग को आज चर्चामंच पर संकलित किया है.. एक बार देखिएगा जरूर..
    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरत रचना जीजी ! पढ़ कर आनंद आ गया ! अति सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर...


    गणेश चतुर्थी और ईद की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    हिन्दी, भाषा के रूप में एक सामाजिक संस्था है, संस्कृति के रूप में सामाजिक प्रतीक और साहित्य के रूप में एक जातीय परंपरा है।

    देसिल बयना – 3"जिसका काम उसी को साजे ! कोई और करे तो डंडा बाजे !!", राजभाषा हिन्दी पर करण समस्तीपुरी की प्रस्तुति, पधारें

    जवाब देंहटाएं
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 14 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह वाह ………………बेहद सुन्दर भाव पिरो दिये हैं………………गज़ब का लेखन्।

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: