20 मई, 2011

व्यथा दो राहों की


दो राहें अनवरत
सतत आगे बढ़तीं
मिलतीं चौराहे पर
अपनी व्यथा बांटने के लिए |
लगती बहुत आहत
तपते सूर्य की गर्मीं से
बेहाल हैं ,झुलस रही हैं
क्यूँ कि आसपास के
वृक्ष जो कट गए हैं |
छाँव का नामोंनिशान नहीं है
ऊपर से आना जाना
भारी वाहनों का
काँप जाती हैं वे
उनकी बेरहम गति से |
अंतस में हुए गर्त
कारण बनते
दुर्घटनाओं के
लेते परीक्षा उनके धैर्य की |
पर वे हैं कहाँ दोषी
अपराधी तो वे हैं
जिनने उन्हें बनाया है |
वे तो जूझ रही है
अनेकों समस्याओं से
परीक्षा दे रही है
अपने धैर्य की |
कभी तो कोई तरस खाएगा
उनके किनारे पेड़ लगाएगा
हरियाली जब होगी
तपते सूरज से
कुछ तो राहत मिलेगी|
आशा


12 टिप्‍पणियां:

  1. एक सार्थक सन्देश देती बहुत सुन्दर प्रस्तुति..आभार

    जवाब देंहटाएं
  2. aapki is rachna me bahut mahatvpoorn sandesh chipa hai.ped lagao hariyali bachaao.bahut achchi rachna.

    जवाब देंहटाएं
  3. तपते सूर्य की गर्मीं से
    बेहाल हैं ,झुलस रही हैं
    क्यूँ कि आसपास के
    वृक्ष जो कट गए हैं


    सार्थक सन्देश बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. EK PED TUM LAGAO EK PED HUM LAGAYEN, IS UJADTE CHAMAN ME PHIR SE HARIYALI LAYE. . . . IS RACHNA KO PADHKAR ME TO YAHI KAHUNGA. . .
    JAI HIND JAI BHARAT

    जवाब देंहटाएं
  5. सड़क के माध्यम से वृक्षों के संरक्षण का बहुत सार्थक संदेश दिया है आपने ! बहुत सुन्दर रचना ! बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  6. एक सार्थक सन्देश देती बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

    जवाब देंहटाएं
  7. मैं साधना वैद जी की बात से सहमत हूँ| पर्यावरण को ले कर आप का चिंतन अनुकरणीय है|

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर लिखा है अपने इस मैं कमी निकलना मेरे बस की बात नहीं है क्यों की मैं तो खुद १ नया ब्लोगर हु
    बहुत दिनों से मैं ब्लॉग पे आया हु और फिर इसका मुझे खामियाजा भी भुगतना पड़ा क्यों की जब मैं खुद किसी के ब्लॉग पे नहीं गया तो दुसरे बंधू क्यों आयें गे इस के लिए मैं आप सब भाइयो और बहनों से माफ़ी मागता हु मेरे नहीं आने की भी १ वजह ये रही थी की ३१ मार्च के कुछ काम में में व्यस्त होने की वजह से नहीं आ पाया
    पर मैने अपने ब्लॉग पे बहुत सायरी पोस्ट पे पहले ही कर दी थी लेकिन आप भाइयो का सहयोग नहीं मिल पाने की वजह से मैं थोरा दुखी जरुर हुआ हु
    धन्यवाद्
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  9. आशा जी,आपकी हरियाली की आशा से मन 'हरिया' गया है.काश हम हर राह को हरियाली से संवार दें.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,नई पोस्ट जारी की है.

    जवाब देंहटाएं
  10. सडकों को भी और इन्सानों को भी राहत मिलेगी

    जवाब देंहटाएं
  11. आदरणीय आशा माँ
    नमस्कार
    ....बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति ! बधाई स्वीकार करें !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: