15 फ़रवरी, 2013

व़जूद मेरा


अपना व़जूद कहाँ खोजूं
फलक पर ,जमीन पर
 या जल के अन्धकार के अन्दर 
सोच सोच   कर थक गयी
लगा  पहुँच से बाहर वह
मन  मसोस कर रह गयी
फिर उठी उठ कर सम्हली
बंधनों में बंधा खुद को देख
कोशिश की मुक्त होने की 
असफल रही आहत हुई 
निराशा ही हाथ लगी 
रौशनी की एक किरण से 
एक अंकुर आस का जागा
जाने कब प्रस्फुटित हुआ 
नव चेतना से भरी 
खोजने लगी अस्तित्व अपना 
वह सोया पडा था 
घर के ही एक कौने में 
दुबका हुआ था वहीँ 
जहां किसी की नजर न थी 
जागृति ने झझकोरा 
क्यूं व्यर्थ उसे गवाऊं 
हैं ऐसे  कई कार्य 
जो अधूरे मेरे बिना 
तभी एक अहसास जागा 
वह जगह मेरी नहीं 
क्यूं जान नहीं पाई 
है व़जूद मेरा अपना 
यहीं इसी दुनिया में  |

आशा 


 



11 टिप्‍पणियां:

  1. है व़जूद मेरा अपना यहीं इसी दुनिया में,,,

    बहुत शानदार उम्दा प्रस्तुति,,,

    recent post: बसंती रंग छा गया

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (16-02-2013) के चर्चा मंच-1157 (बिना किसी को ख़बर किये) पर भी होगी!
    --
    कभी-कभी मैं सोचता हूँ कि चर्चा में स्थान पाने वाले ब्लॉगर्स को मैं सूचना क्यों भेजता हूँ कि उनकी प्रविष्टि की चर्चा चर्चा मंच पर है। लेकिन तभी अन्तर्मन से आवाज आती है कि मैं जो कुछ कर रहा हूँ वह सही कर रहा हूँ। क्योंकि इसका एक कारण तो यह है कि इससे लिंक सत्यापित हो जाते हैं और दूसरा कारण यह है कि किसी पत्रिका या साइट पर यदि किसी का लिंक लिया जाता है उसको सूचित करना व्यवस्थापक का कर्तव्य होता है।
    सादर...!
    बसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमन ।।
    बढ़िया है -
    शुभकामनायें- ||

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत खूब ,बहुत खूब ,बहुत खूब ,कृपया आहात शब्द ठीक कर लें -आहत

    जवाब देंहटाएं
  5. बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ!बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  6. बढ़िया रचना है जीजी ! हमारा अस्तित्व हमारी परछाईं की तरह ही है जो कभी हमसे जुदा नहीं हो सकता ! बस प्रकाश के प्रत्यावर्तन से उसका आकार प्रकार भले ही बदल जाए लेकिन वजूद ख़त्म नहीं होता ! सार्थक प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं
  7. दुनिया का बजूद जिससे हो
    उसी को बजूद तलाशनी पड़ती है
    खामोश करती रचना

    जवाब देंहटाएं
  8. आशा जी को रूप जी को सादर नमन,सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: