18 मार्च, 2013

होली न सुहाय



ना कर जोरा जोरी सांवरे
छोटा लालन रोवत है
भए लाल गाल गुलाल से
नन्हां देवरिया डरपत है |
मैं तेरे रंग में रंगी
भीगी चूनर सारी
फिर काहे की जोरा जोरी
ना कर मुझ से बरजोरी |
जाड़ा लगत
तन थर थर कांपत
मैं रंग में ऐसी रंगी
गहरे रंग छूटत नाहीं  |
है प्यार भरी अनुनय मेरी
 छींटे ही नीके लागत  हैं
ऐसी होली मोहे ना भावे
तेरा रंग ही काफी है |
तेरा रंग चढा ऐसा
बाकी रंग लागत फीके
उस के आगे कछु न भाए
मोहे  ऐसी होली न सुहाय |
आशा

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

    जवाब देंहटाएं
  2. मैं रंग में ऐसी रंगी
    गहरे रंग छूटत नाहीं....
    ----------------
    ati sundar..

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर होली,आभार.

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रिय का प्यार का रंग सबसे पक्का रंग
    सुंदर प्रस्तुति ....आभार

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर .बेह्तरीन अभिव्यक्ति.शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  6. प्रेम के सुंदर रंगो में रंगी रचना ,
    साभार...........

    जवाब देंहटाएं
  7. प्रीत का रंग पक्का बाकी रंग फीके... बहुत सुन्दर रचना... आभार

    जवाब देंहटाएं
  8. होली के मान मनौव्वल और बरजोरी के रंग में रंगी बहुत सुंदर प्रस्तुति ! मज़ा आ गया !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: