22 मई, 2015

विनती है तुझसे


प्रार्थना करता भक्त के लिए चित्र परिणाम
कण कण में तेरा वास प्रभू
यही सुना है बचपन से
फिर भी इतना अंतर क्यूं
धनिक और ग़रीबों में
एक बात और देखी
कोई भी सुखी नहीं है
किसी न किसी उलझन में
फंसा है जूझ रहा है
क्या तुझको दया नहीं आती
क्यूं माँ बच्चों को भूखा सुलाती
अर्ध नग्न बच्चे बेचारे
ऋतुओं के जुल्म सहते जाते
जो मर्मान्तक पीड़ा झेल न पाते
दुनिया से कूच कर जाते
अनैतिक व्यापार जहां भी होता
तू कैसे अनदेखी करता
कोई राह नहीं सुझाता
पत्थर दिल तेरा नहीं पसीजता
यह आखिर कब तक चलेगा
क्या दया भाव तुझमें उपजेगा
कोई  तो राह निकाल प्रभू
थोड़ा सा कर उपकार प्रभू |

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Your reply here: