03 नवंबर, 2018

हमराज






                                                             किसीने कहा है कठिन राह 
छोड़ दे साथ
 पर मन नहीं मानता
यदि तुम्हारी मर्जी हो
सब कुछ छोड़ देंगे हम
पर एक ही रास्ता है ऐसा
जिसे न मोड़ पाए हम |
हमराज रहे मेरे
इन हसीन वादियों में
जब से कदम रखा
इस प्यार की दुनिया में
दिन रात खोए रहते हम
नहीं बहके कभी कदम
ना ही कभी डगमगाए
बादा जो किया तुमसे
उसे पूरा करेंगे हम |
छोड़ते तो कायर है
मगर हम न छोड़ेगे साथ
कदम से कदम मिला कर चलेंगे
रहेंगे सदा हमराज |
आशा