26 फ़रवरी, 2020

आकांक्षा




था गर्ब मुझे अपने कृतित्व पर    
कभी सोचा न था असफलता हाथ लगेगी
आशाओं  को तार तार करेगी
हार से  दो चार हाथ होंगे |
मनोबल टूट कर  बिखर जाएगा
 सुनामी का कहर आएगा
नयनों का जल अविराम बहता जाएगा |
पर अचानक अश्रु थम गए
मन में कहीं दृढता जागी
मन को एकाग्र किया
अपनी गलतियों का मंथन किया |
तभी  सही मार्ग दिखाई दिया
 सफलता पाने का अवसर पाया
पीछे कदम न लौटेंगे अब
 दृढ संकल्प मन में किया |
दिन रात की महानत रंग लाई
आशा की किरण नजर आई
आगे  बढे कदम फिर लौट न पाए
 फल मीठा पास आने लगा  |
हुई  प्रसन्न  सफलता पाने से
आकांक्षा बढ़ी तीव्र गति से
और और की इच्छा जागी
सही मार्ग चुनने से |
 जूनून  सफलता का ऐसा चढ़ा  
 नया कुछ  करने का जोश जगा
छोड़ कर आलस्य हुई  सक्रीय फिर से
विश्वास भरे मन से |
 दृढ निश्चय लगन आशा अभिलाषा
 प्रवल आकांक्षा की सीडी चढ़ कर
सही मार्ग चुन कर हारी नहीं  
परचम फैलाया अपनी सफलता पर  |
आशा

14 टिप्‍पणियां:

  1. दृढ इच्छा शक्ति निश्चित सफलता की कुंजी है
    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  2. धन्यवाद ओंकार जी टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में शुक्रवार 28 फरवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!!!
    बहुत सुन्दर ...प्रेरक रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  6. कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ! मन में जोश जगाती बहुत सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: