05 मई, 2020

संजीदगी















जीवन में उतार चढ़ाव आते रहते  
 वे नजर आते जिन्दगी की धड़कनों में
जब  धड़कन तेज हो बेकाबू होने लगती
सब कहते धीरज धरो  शांती से काम लो |
 जब सांसों  की गति मंद पद जाती
कहा जाता व्यर्थ  चिंता किस बात की
है यही जिन्दगी का सत्य आज
सब ठीक हो जाएगा समय पा कर |
कहना बड़ा सरल है पर वही जानता है
जिसने समस्याओं को भोगा हो
उनका  बहुत संजीदगी से सामना किया हो
फिर भी नहीं खोज पाया हो कोई हल |
वे पैंठ जाती हैं मन में गहराई तक
कैसे उनसे छुटकारा पाऊं
 बहुत ही संजीदा होकर सोच रहा हूँ
स्वप्न भी अछूते नहीं रह्ते उनसे |
जैसे ही पलकें बंद होने लगती     
स्वप्न पहले से आने को तैयार रहते  
बहुत बेचैनी होने लगती है
अपने  प्रिय जन को स्वप्न  में देख कर  |
न जाने कितने भले बुरे  ख्याल आते हैं
 होता मन अशांत मुख मंडल क्लांत
दिनरात वही ख्याल मन में रहता
कुछ बुरा तो नहीं होगा |
सभी सपने  सच्चे नहीं होते
मन का भटकाव ही
 ऐसे स्वप्नों को देता जन्म
किसी से सलाह लेने को मन चाहता |
पर जिससे बात करो यही उत्तर होता  
थोड़ी संजीदगी रखो
 मन को इतनी छूट न दो
 किसी कार्य में रखो व्यस्त मन को |
 स्वप्न आएँगे तो अवश्य पर दिल नहीं दुखेगा
 बुरे स्वप्नों से कोसों दूर रहोगे
वे होंगे प्रसन्नता से भरे
 तबियत होगी संजीदगी से भरी |
चाहिए नहीं  कोई तंत्र ना मन्त्र
ऐसी समस्याओं के लिए
खुश रहो और प्रसन्नता  बांटो
किसी भी बात को दिल पर न लो |
आशा

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (06-05-2020) को   "शराब पीयेगा तो ही जीयेगा इंडिया"   (चर्चा अंक-3893)    पर भी होगी। -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    आप सब लोग अपने और अपनों के लिए घर में ही रहें।  
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर सार्थक संजीदा सी रचना ! बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति आदरणीया दीदी

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    टिप्पणी हेतु आभार सहित धन्यवाद अनीता जी |

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 11 मई 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह!सुंदर सृजन आशा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह! बहुत सुंदर अभिव्यक्ति आदरणीया दीदी

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: