11 जुलाई, 2010

जिसे विश्वास कर्ता पर हो

परम्पराओं में फंसा इंसान ,
रूढियों से जकड़ा इंसान ,
सदियों से इस मकडजाल में ,
चारों ओर से घिरा इंसान ,
निकलना भी चाहे ,
तो निकल नहीं पाता ,
ऊपर जब भी उठना चाहे ,
जाल से बाहर आना चाहे ,
फिर से उसी में फिसल जाता |
वह तो डरता है जाति बंधन से ,
जिसकी कोइ चर्चा नहीं ,
शास्त्रों और पुरानों में ,
समाज फिर भी जोड़ लेता इसे संस्कृति से ,
और देता है दुहाई परम्परा की ,
परिस्थितियाँ ऐसी निर्मित करता है ,
बेबस मनुष्य को कर देता है ,
सपनों का गला घुट जाता है ,
वह मन मार कर रह जाता है |
कई अनुभव जिंदगी के ,
बहुत कुछ सिखा जाते हें ,
जिसे विश्वास कर्ता पर हो ,
और आस्था उस पर ही हो ,
विश्वास स्वयम् जाग्रत होता है ,
तब सभी बंधनों से मुक्त वह ,
आगे को बढ़ता जाता है ,
झूठी परम्पराओं से ,
दुनिया के दिखावों से ,
छुटकारा पा जाता है ,
जीवन सुखी हो जाता है |
आशा