19 अगस्त, 2012

सबब उदासी का

आज के  जन मानस में 
रहती निष्प्रह नितांत अकेली 
दिखती मितभाषी 
स्मित मुस्कान बिखेरती
उदासी  फिर भी छाई रहती
उससे अलग न हो पाती
पर सबब उदासी का
किसी से न बांटती
जब  भी मन  टटोलना चाहा
शब्द अधरों तकआकार रुक जाते
अश्रुओं के आवेगा में  खो जाते
 असहज हो अपने आप में खो जाती
फिर  भी हर बात उसकी
अपनी और आकृष्ट करती
कई विचार आते जाते
पर निष्कर्ष तक न पहुच  पाते
एक दिन वह  चली गयी
संपर्क  सूत्र तब भी ना टूटे
समाज सेवा ध्येय बनाया
पूरी निष्ठा सेअपनाया
व्यस्तता बढती गयी
उदासी  फिर भी न गयी
वह दुनिया भी छोड़ गयी
कोइ उसे समझ ना पाया
क्या चाहती थी जान न पाया
था क्या राज उदासी का
समझ  नहीं  पाया
राज राज ही रह गया
उसी के साथ चला गया |
आशा