31 अगस्त, 2013

जमाई

पुराने रीतिरिवाज 
लगते बहुत खोखले 
  मन माफिक बात  न होने पर 
वह झूठे तेवर दिखाता 
अपने को   भूल जाता  |
है किस्सा नहीं अधिक पुराना 
फिर भी जब याद आता 
मन विचलित कर जाता 
सोचने को बाध्य करता 
ऐसे रिश्तों की होती है
 अहमियत क्या ?
है एक गाँव छोटा सा 
आया वहां एक जामाता 
सब आगे पीछे घूम रहे 
नहीं थकते कुंवर जी कहते 
कटु बचन भी सह कर 
उसके नखरे उठा रहे |
फिर भी अकड़
 उसकी भुट्टे सी
कम होने का नाम न लेती 
मीठे बोल नहीं जानता 
तीखा सा प्रहार करता 
रखलो अपनी बिटिया को 
अब मैं  नहीं आने वाला  |
बेटी का कोइ दोष तो होता 
तब बात में दम होता 
वह तो युक्ति खोज रहा 
बिना बात तंग करने की 
अपनी शान बताने की 
मनुहार करवाने की  |
क्यूँ कि है वह मान्य 
सभी अब आधीन उसके 
है यही सोच उसका 
 मर्जी सर्वोपरी उसकी 
क्यूँ कि  है  वह
उस गाँव का  जमाई |
आशा