31 अगस्त, 2013

जमाई

पुराने रीतिरिवाज 
लगते बहुत खोखले 
  मन माफिक बात  न होने पर 
वह झूठे तेवर दिखाता 
अपने को   भूल जाता  |
है किस्सा नहीं अधिक पुराना 
फिर भी जब याद आता 
मन विचलित कर जाता 
सोचने को बाध्य करता 
ऐसे रिश्तों की होती है
 अहमियत क्या ?
है एक गाँव छोटा सा 
आया वहां एक जामाता 
सब आगे पीछे घूम रहे 
नहीं थकते कुंवर जी कहते 
कटु बचन भी सह कर 
उसके नखरे उठा रहे |
फिर भी अकड़
 उसकी भुट्टे सी
कम होने का नाम न लेती 
मीठे बोल नहीं जानता 
तीखा सा प्रहार करता 
रखलो अपनी बिटिया को 
अब मैं  नहीं आने वाला  |
बेटी का कोइ दोष तो होता 
तब बात में दम होता 
वह तो युक्ति खोज रहा 
बिना बात तंग करने की 
अपनी शान बताने की 
मनुहार करवाने की  |
क्यूँ कि है वह मान्य 
सभी अब आधीन उसके 
है यही सोच उसका 
 मर्जी सर्वोपरी उसकी 
क्यूँ कि  है  वह
उस गाँव का  जमाई |
आशा

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    ---
    हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल किया गया है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} (01-09-2013) को हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |
    ---
    सादर ....ललित चाहार

    जवाब देंहटाएं
  2. हम ही लोग बैठते हैं इतना सिर पर ....

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार -01/09/2013 को
    चोर नहीं चोरों के सरदार हैं पीएम ! हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः10 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-09-2013) के चर्चा मंच 1355 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    जवाब देंहटाएं
  5. भई वाह ! लेकिन अब ऐसे जमाइयों के दिन लद चुके हैं ! ऐसे बद दिमाग लोगों को कोई पसंद नहीं करता और अब तो लड़कियाँ भी बोल्ड हो गयी हैं और ऐसे अकड़बाजों को अच्छी तरह से सबक सिखाना सीख गयी हैं ! मजेदार रचना !

    जवाब देंहटाएं
  6. पुराने समय में तो ऐसा बहुत होता था..
    अब भी है कोई खास जमाई साहब..
    बेहतरीन रचना..
    :-)

    जवाब देंहटाएं
  7. मैं आप सब की बातों से सहमत हूँ पर यह किस्सा कुछ दिन पहले का ही है
    जब उस गाँव में एक जमाई राजा आए थे और लोगों ने उनके बड़े नखरे उठाए थे |
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  8. bahut badhiya aaz ke samay me bhi eise jamai hote hai :) ?

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर अभिव्यक्ति .. अब शहरों में यह सब नहीं देखने को मिलता . इसका भी अपना एक सुख था ..

    जवाब देंहटाएं
  10. आशा जी अभी ऐसे जमाई भी मिल जाते हैं , बचपन से बहुत सरे देखते चली आ रही हूँ लेकिन वे सब वो होते हैं जिनके घर में खुद जमाई नहीं होते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  11. धीरे धीरे बदलाव आ रहा है ... अपने अंदर ये बदलाव लाना चाहिए ... फिर कोई सर पे नहीं बैठ सकता ...

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: