27 सितंबर, 2013

सार्थक जीवन

इस जिन्दगी में
 क्या रखा है
 कब बिखर जाए
कुछ काम ऐसे करो 
जीवन सँवर जाए 
जाने के बाद भी 
तुम्हें याद किया जाए
जीवन काल में
जो कुछ किया
यदि आधा अधूरा ही रहा 
नई पीढी उसे 
पूरा कर पाए
बार बार तुम्हारा
 अनुकरण कर पाए
 हर कदम पर
तुम्हारा स्मरण
 किया जाए
कोइ कभी तुम्हें
 भूल न पाए |
आशा