23 सितंबर, 2013

क्या करे



अपने आप में सिमटना
अंतर्मुखी होना
अब क्यूं खलता है
क्या यह कोई  कमीं है
पहले कहा जाता था
मुखर होना शोभा नहीं देता
चेहरे का नूर हर लेता
धीरे चलो धीरे बोलो
 लड़कियों के ढंग सीखो
बहुत कठिन था
अपने में परिवर्तन करना
तब अनवरत प्रयास  किये
अपना अस्तित्व ही मिटा दिया
नियमों पर खरा उतरने में
अब तसवीर बदल गयी है
कहा जाता है
कभी घर से तो निकलो
मिलो जुलो सर्कल बनाओ
पर उलझ कर रह गयी है 
दो तरह के नियमों में
पहले थी बाली उमर
खुद को बदलना संभव हुआ
पर अब अपना है सोच 
जीने का एक तरीका है
कैसे परिवर्तन हो
समझ नहीं पाती 
सोचते सोचते
अधिक ही थक जाती है
कोइ हल नजर नहीं आता |
आशा

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (24-09-2013) मंगलवारीय चर्चा--1378--एक सही एक करोड़ गलत पर भारी होता है|
    में "मयंक का कोना"
    पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ लिखी है आपने है
    Latest post हे निराकार!
    latest post कानून और दंड

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार - 25/09/2013 को
    अमर शहीद वीरांगना प्रीतिलता वादेदार की ८१ वीं पुण्यतिथि - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः23 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra

    जवाब देंहटाएं
  4. अधिकतर इंसानों का जीवन इसी तरह दोराहे पर सोचते विचारते ही बीत जाता है ! सुंदर सार्थक रचना !

    जवाब देंहटाएं
  5. कच्ची माटी से तो घड़ा बना लो या सुराही ..एक बार पकने के बाद वाकई बड़ा मुशकि होता है ..बिलकुल सही कहा है आपने ..सादर बधाई के साथ

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: