18 सितंबर, 2013

घरोंदा



तेरी जुल्फ़ों की छाँव तले
एक स्वप्न सजाया मैंने
प्यार  की सौगात से
एक घरोंदा  बनाया मैंने |
है यही मंदिर मेरा
छोटा सा संसार मेरा
छोटी बड़ी खुशियों का
है अपूर्व भण्डार यहाँ |
दिन भर धटती घटनाओं से
जब कभी क्लांत होता हूँ
पा कर सान्निध्य तेरा
चिंता मुक्त होता हूँ |
यहाँ बिताए हर पल से
जो सुकून मिलता है
तेरी पनाह में रहने का
ख्याल सजीव रहता है
क्षय होता पल पल कहता है
जिन्दगी जी भर कर जी ले
मन में कोइ साध न रहे
सभी पूर्ण कर ले |

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (19-09-2013) आश्वासनों का झुनझुना ( चर्चा - 1373 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हिन्दी पखवाड़े पर हार्दिक शुभ कामनाएं आपको भी |

      हटाएं
  2. मीठी मधुर सी साध लिये बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ! बहुत खूब !

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार - 20/09/2013 को
    अमर शहीद मदनलाल ढींगरा जी की १३० वीं जयंती - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः20 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर और शानदार लेखन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद टिप्पणी के लिए कुशवंश जी |
      आशा

      हटाएं
  5. बेहद सुंदर...सार्थक रचना...

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: