12 जनवरी, 2019

शिकवा शिकायत किस लिए






झूलते झूलते 
गिर कर उठना 
उठ कर सम्हलना 
नहीं है सरल सुलभ 
यही अहसास हुआ 
इतनी सी बात
जो नहीं जानते 
खुद को नहीं पहचानते |
सत्य से दूर भागते 
सोचो समझो
परखो खुद को 
जिसने समझ लिया 
वही आगे बढ़ पाया 
जलने वाले रहे जलते 
हंसने वाले हंसते रहे 
दूसरों के सभी कार्य 
उनको खलते रहे 
गिला शिकवा किस लिए 
किसके लिए |
आशा