20 जनवरी, 2010

आत्म दग्धा


माँ के बिना बीता बचपन
केवल रहा पिता का साया 
बाबा को डर लगता था
कैसे बड़ी सुमन होगी
 चिंता वह करता था
 सोच कर हो व्यथित अक्सर दुखी हो जाता था !
कैसे हुआ अजब संजोग
बड़ी बुआ के कहने से
बूढ़े से मेरा ब्याह रचाया
वृद्ध पति रूखा व्यवहार
न कोई ममता  न कोई माया
जलती रोटी देख तवे पर
उसको बहुत गुस्सा आया
जलती लकड़ी से मुझे जलाया !
तब तन तो मेरा झुलसा ही 
मन ने भी हाहाकार मचाया
मरना भी स्वीकार नहीं था
जीवन भी जीना ना चाहा
मरने जीने की उलझन ने
मुझे अधिक बिंदास बनाया !
जब बड़ी हुई थोड़ी मैं
 तन भी भटका मन भी अटका
चाहा साथ किसी ऐसे का
हाथ पकड़ जो साथ ले चले !
फिर से  मैंने धोखा खाया
बिन ब्याही माँ बनी जब 
इसी समाज ने ठुकराया !
कुछ समय जब बीत गया
फूट गया मन का छाला
जैसे तैसे शुरू किया जीवन
एक और से ब्याह रचाया !
ज़िन्दगी फिर पटरी पर आई
मैंने पत्नी धर्म निभाया
एक दिवस वह गया काम पर
 मेरी सौतन ले आया !
मन विद्रूप से भर-भर आया
नफरत ने मन में पैर जमाया
अब खुद ही खुद से लड़ती हूँ
क्या मै ही गलती करती हूँ !
वह सौतन रास नहीं आई
मुझको फूटी आँख नही भाई
बालबाल फिर कर्ज में डूबी
घर चलाना  कठिन हो गया
वह कायर घर से दूर हो गया !
कैसे पालूँ कैसे पोसूँ
इन छोटे-छोटे बच्चों को
कैसे घर का कर्ज उतारूँ
नहीं राह कोई दीखती
बढ़े कर्ज और भूखे बच्चे
सारे धागे लगने लगे कच्चे !
ऐसे में इक ठोला आया
उसने यह अहसास दिलाया
बहुत सहज है , बहुत सरल है
थोड़ा है जो क़र्ज उतर ही जायेगा
ठोले से मैंने प्यार बढ़ाया
फिर से मैंने धोखा खाया
वह तो बड़ा सयाना निकला
भँवर जाल में मुझे फँसाया
उसने मेरा चेक भुनाया !
अब तिल-तिल कर मैं मरती हूँ
खुद ही से नफरत करती हूँ
पर मन के भीतर छुपी सुमन
अक्सर यह प्रश्न उठाती है
मैंने क्या यह गलत किया
और मेरी क्या गलती है ?
जिसने चाहा मुझको लूटा
मेरा जीवन बर्बाद किया !
वे सब तो दूध के धुले रहे
बस मैं ही हर क्षण पिसती हूँ
जब भी  जिधर से निकलती हूँ
मुझ पर उँगली उठती है
हर पल के ताने अनजाने
मुझ में नफरत भरते हैं !

आशा

12 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी कविता है. लेकिन अब आशावादी हो जायें.

    जवाब देंहटाएं
  2. अपने जीवन को बिना डोर की पतंग बनाने पर यही हाल होता है । जीवन में सर पर बड़ों के अनुशासन और संरक्षण की महत्ता इसीलिये परम आवश्यक है ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत व्यथित करने वाला है इन पंक्तियों के पीछे का दर्द..

    जवाब देंहटाएं
  4. " saaf baat saaf alfaz ...bahut hi acchi post "


    ----- eksacchai.{ AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिये स्वागत और बधाई । अन्य ब्लागों को भी पढ़ें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देने का कष्ट करें

    जवाब देंहटाएं
  6. बढे कर्ज और भूखे बच्चे ,सारे धागे लगने लगे कच्चे
    achha likha hai apne anter dhuand se yeh aapki ladaee ... or jab apna anter dhuand hi apne pe hawi ho jaye to yeh vidmbna uthan leti hai jiwan me...
    jindgi ek dice ki tarah hai jo hamare bhagaye par nirbhar karta hai or bhagay jab chahe apna rukh badal sakta hai. har baar apko apna naya rang dikha sakta hai ..

    asha ji aap se asha hai ki aap oro ko bhi pade apki gutthi khulti nazar ayegi

    manoj
    http://mastano-ka-mehkma.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  7. इस नए ब्‍लॉग के साथ आपका हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. आपसे बहुत उम्‍मीद रहेगी हमें .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: